झांसी की बेटी को न्याय की दरकार, धोखे में रखकर की शादी, मिली मौत

धोखे में रखकर की शादी, युवती की मौत
झांसी की बेटी को न्याय की दरकार, धोखे में रखकर की शादी, मिली मौत
Jhansi Daughter Sushma deathSocial Media

मामला धोखा देकर शादी करने और बाद में मरने के लिए छोड़ देने जैसे गंभीर मामले से जुड़ा हुआ है, स्थानीय लोगों के अनुसार उक्त व्यक्ति महिलाओं के साथ धोखाधड़ी करता है और लड़कियों को फंसाकर उनके जज्बातों के साथ खेलता है, व्हाट्सएप चैट में भी इसका खुलासा हुआ है।

पहले शादी फिर धोखा:

मामले की शुरुआत ग्राम व थाना समथर जिला झांसी से शुरुआत हुई जहां की बेटी सुषमा की शादी 19 अप्रैल 2019 को जालौन निवासी बॉबी से हुई। शादी के वक्त बॉबी ने लड़की पक्ष और लड़की को यह बताया कि वह एमबीबीएस डॉक्टर है तथा रायपुर छत्तीसगढ़ में रहकर निजी प्रैक्टिस करता है। शादी के तुरंत बाद ही सुषमा को बॉबी द्वारा अपने पैतृक गांव कुकरगांव जिला जालौन ले जाया गया जहाँ पर सुषमा को छोड़कर बॉबी रायपुर निकल गया। बाद में सुषमा को यह जानकारी मिली कि बॉबी कोई डॉक्टर नहीं है न ही बॉबी उसका असल नाम है बल्कि वास्तविक नाम प्रेसिडेंट साहिल है। सुषमा के बार-बार कहने पर साहिल उर्फ बॉबी के द्वारा सुषमा को छोड़ दिया गया वहीँ साहिल उर्फ बाबी का परिवार भी बॉबी के साथ रायपुर निकल गया।

धमकी प्रताड़ना और मौत:

शादी के बाद सुषमा लगातार बॉबी से उसके साथ रहने और जाने की बात कह रही थी इसके बावजूद बॉबी ने सुषमा को लगातार धमकियां दी। परिवार द्वारा उपलब्ध कराई गई व्हाट्सएप चैट में सुषमा लगातार बॉबी से मिन्नते करती हुई नजर आती है लेकिन बॉबी के अनुसार वह उसे किसी कीमत पर अपने साथ नहीं रखेगा। इसी घटनाक्रम के चलते बीते दिनों सुषमा की ब्रेन हैमरेज की वजह से मौत हो गयी। घरवालों ने आरोप लगाया कि स्थानीय पुलिस बॉबी के पैसे के बल पर न तो एफआईआर दर्ज कर रही है न ही सुषमा का पोस्टमार्टम किया जा रहा है।

अगर प्रशासन चाहता तो मौत रुक सकती थी:

मामले को लेकर पीड़िता अपने परिवार के साथ तमाम सबूतों जैसे व्हाट्सएप, काल रिकॉर्डिंग जैसे सुबूतों को लेकर साल भर अधिकारियों के दरवाजे नापती रही। लेकिन किसी अधिकारी ने युवती की मदद नहीं की बल्कि उसे दुत्कारा गया और यही कारण था कि युवती को मस्तिष्क संबंधित बीमारिया हुई और बीते दिनों युवती की ब्रेन डेड होने से मृत्यु हो गयी। परिवारीजनों के अनुसार यह एक प्रसाशनिक हत्या है।

परिवार को न्याय चाहिए:

समथर की बेटी को न्याय अबश्य मिलना चाहिए सोई हुई न्यायपालिका प्रशासन को जगना पड़ेगा बहन हम आपके साथ है न्याय दिलाने के लिए...

Posted by Drx Bharat Vyas Samthar on Tuesday, June 16, 2020

सुषमा की मौत के बाद उसके शव को लेकर परिवार दर-दर भटकता रहा। मामले को लेकर न तो किसी पुलिस विभाग के अधिकारियों ने तत्परता दिखाई और न ही सुषमा को न्याय दिलाने की बात कही गयी। मामले को लेकर सुषमा की बहन सुमन ने सरकार और न्याय तंत्र के खिलाफ एक मुहिम छेड़ दी है। देखते है जिम्मेदार लोगों के कान कब तक खुलते हैं।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com