SP Mahoba Manilal patidar and indrakant tripathi
SP Mahoba Manilal patidar and indrakant tripathi|Uday Bulletin
देश

महोबा एसपी रिश्वतखोरी के मामले में किये गए निलंबित, जबरन पैसे वसूलने का था मामला

रिश्वत न देने पर महोबा के एसपी ने व्यापारी को गोली मरवा दी। व्यापारी ने सोशल मीडिया पर सीएम योगी से लगायी थी गुहार।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

महोबा जिले का कबरई कस्बा उत्तर भारत मे पत्थर नगरी के नाम से जाना जाता है जहाँ पर पुलिस के लिए हज़ारों मौके होते है। इसी चक्कर मे महोबा एसपी मणिलाल पाटीदार ने क्रेशर मालिक और वाहन स्वामी से सुविधा शुल्क की मांग कर दी और पैसे न पहुँचाने पर पुलिस के माध्यम से पत्थर व्यवसायी को परेशान करना शुरू कर दिया और नौबत व्यपारी की जान से हाँथ धोने पर भी आ गयी।

पत्थर व्यापारी से रंगदारी और न मिलने पर गोली:

महोबा में पत्थर व्यवसायी को मारी गोली
महोबा में पत्थर व्यवसायी को मारी गोली
महोबा में पत्थर व्यवसायी को मारी गोली
महोबा में पत्थर व्यवसायी को मारी गोली

पुलिस का नाम सुनते ही आपको रक्षक शब्द अपने जेहन में याद आता होगा लेकिन उत्तर प्रदेश की वीरभूमि महोबा जिले में पुलिस का बड़ा ही कुरूप चेहरा सामने आया है। दरअसल कोरोना काल मे चल रहे लॉक डाउन की वजह से कबरई का पत्थर उद्योग पूरी तरह चरमरा गया है लेकिन कबरई में रहकर अगर आपको क्रेशर इत्यादि चलानी है तो जिले में पुलिस के मुखिया को चढ़ावा चढ़ाना बेहद जरूरी हो जाता है। अन्यथा आपके प्लांट को कानूनी बारीकियां दिखाकर सीज करा दिया जाएगा या फिर आपकी क्रेशर में चलते वाहनों को बंद करा दिया जाएगा। दरअसल पिछले कुछ दिनों पहले कबरई के जवाहर नगर निवासी इन्द्रकांत त्रिपाठी ने सोशल मीडिया में एक वीडियो डाल कर मुख्यमंत्री समेत अन्य आला अधिकारियों और भाजपा नेतृत्व से मदद मांगी थी। जिसमे त्रिपाठी द्वारा या बताया गया था कि एसपी महोदय मणिलाल पाटिदार द्वारा 6 लाख रुपये प्रतिमाह की रिश्वत का आदेश दिया गया है और इतने रुपये न देने की स्थिति में एसपी के निर्देशन पर स्थानीय पुलिस द्वारा परेशान करने की बात सामने आई थी साथ भी व्यापारी ने यह आशंका जताई थी कि उसकी जान खतरे में है। एसपी के निर्देशन पर उसको कभी भी खत्म किया जा सकता है।

मारी गयी गोली, एसपी जांच में पाए गए दोषी:

मामले में उछाल तब आया जब व्यापारी इन्द्रकांत त्रिपाठी के द्वारा वीडियो जारी किए हुए 24 घण्टे भी नही बीते और त्रिपाठी संदिग्ध स्थिति में मरणासन्न पाये गए। उनकी कार सड़क के किनारे पर पलटी हुई पाई गई, त्रिपाठी को गोली उनकी गर्दन के पास मारी गयी थी। त्रिपाठी के द्वारा वीडियो वायरल करने पर एसपी महोबा द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस करके अपनी सफाई भी पेश की गई थी जिसमें यह बताया गया था कि उक्त व्यक्ति जिले के ही गांव रिवई में जुआ खिलाने के काम करता है। हालाँकि विभागीय जांच में यह साफ हो गया है कि एसपी महोबा के द्वारा उक्त व्यापारी को लगातार परेशान किया जा रहा था और फर्जी मुकदमे में फ़साने के लिए जाल बुने जा रहे थे। सूत्रों के अनुसार यह भी सामने आया है कि इस मामले में सीओ कबरई और एक अन्य विस्फोटक व्यापारी भी शामिल है।

एसपी मणिलाल पाटीदार की प्रेस कॉन्फ्रेंस

व्यापारी अस्पताल में मौत से जंग लड़ रहा है:

ज्ञात हो कि अज्ञात लोगों की गोली से घायल इन्द्रकांत त्रिपाठी इस वक्त कानपुर के एक अस्पताल में मौत से जंग लड़ रहा है। महोबा जिले समेत पूरे उत्तर प्रदेश में इस घटना को लेकर बवाल मचा हुआ है। मामले को बड़े स्तर पर आते हुए देखकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले की जांच कराई और यह पाया गया कि एसपी मणिलाल पाटीदार इस मामले में दोषी पाए गए है और उन्हें सस्पेंड कर दिया गया है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com