यूपी में लव जेहाद पर करारा प्रहार, बनाया अध्यादेश, 10 साल तक हो सकती है कैद

योगी आदित्यनाथ ने लव जिहादियों को सबक सिखाने का प्रबंध कर दिया
यूपी में लव जेहाद पर करारा प्रहार, बनाया अध्यादेश, 10 साल तक हो सकती है कैद
ordinance against love jihadGoogle Image

उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश में चल रहे लव जेहाद के मामले पर बेहद कड़ा अध्यादेश पेश किया है, हालाँकि इस अध्यादेश पर सरकार ने बिना लव जेहाद शब्द को शामिल करते हुए इसे "गैरकानूनी धर्मांतरण निषेधक ऑर्डिनेंस" के तौर पर प्रस्तुत किया गया है"

पेश हुआ एंटी लव जेहाद बिल:

देश भर में जिस वक्त लव जेहाद के मामले उभर कर सामने आ रहे है इसी दौरान उत्तर प्रदेश की कैबिनेट ने एक ऑर्डिनेंस पास कर दिया है, इस अध्यादेश को "उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश 2020" के नाम से इंट्रोड्यूस कराया गया है, यूपी सरकार में राज्य कैबिनेट मंत्री के तौर पर पदस्थ सिद्धार्थ नाथ सिंह ने इस बारे में मीडिया में अवगत कराते हुए जानकारी दी, सिंह ने इस बिल के बारे में यह बताया कि अगर कोई व्यक्ति और महिला शादी करने के लिए धर्म का परिवर्तन करते है तो यह विधिसम्मत नही माना जायेगा और इस कृत्य पर उन्हें 3 साल अथवा 7 साल या अधिकतम 10 साल तक कि सजा दी जा सकती है।

योगी का था अहम प्रोजेक्ट:

दरअसल उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इससे पहले ही लव जेहाद के खिलाफ सक्षम कानून बनाने की बात कही थी और प्रदेश के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने इस आर्डिनेंस के पहले ही संकेत दिए थे कि ऐसे मामले समाज मे शर्मिंदगी और दुश्मनी के कारक बनते जा रहे है, इससे पहले प्रयाग राज हाईकोर्ट ने भी ऐसे ही मामले में सिर्फ विवाह के लिए धर्मांतरण को अवैध ठहराया था, उपचुनावों के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने भाषणों में इस बात का जिक्र किया था कि "हम इस तरह के लव जेहाद के मामलों को कड़ाई से रोकने के लिए सक्षम कानून का निर्माण करेंगे " और इस बिल के द्वारा योगी सरकार ने अपने वादे को पूरा भी कर दिया है

ग्रह विभाग ने तैयार किया मसौदा:

आपको बताते चले कि उत्तर प्रदेश के ग्रह विभाग ने योगी के निर्देश पर पहले ही मसौदा तैयार कर लिया था, और इस मसौदे को तैयार करके टेस्टिंग के लिए विधायी मामलों के खेमे में भेजा था अब जिसे एक ऑर्डिनेंस की शक्ल देकर पेश किया गया है

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com