टिड्डी दल (प्रतीकात्मक चित्र)
टिड्डी दल (प्रतीकात्मक चित्र)|Uday Bulletin
देश

बुंदेलखंड में टिड्डिदल का हुआ आक्रमण, कोरोना के बीच नई आफत

कोरोना की महामारी के बीच इन दिनों बुंदेलखंड के किसानों के लिए एक नई समस्या अपने पैर पसार रही है, किसानों के लिये टिड्डिदल का आक्रमण किसी सदमे से कम नही है।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

झांसी के पास देखा गया टिड्डी दल:

आज सुबह तड़के बुंदेलखंड के झांसी में टिड्डिदल देखा गया, झांसी इलाके में कई जगह लगी हुई हरी फसल को चट करने की वारदातें सामने आई है। किसानों ने शिकायत की है कि जिन खेतो में हरी सब्जियां लगी हुई थी वहाँ अब सब्जियों के नाम पर फसलो के डंठल लगे हुए नजर आ रहे हैं।

पूरे बुंदेलखंड में मंडरा रहा है खतरा:

दरअसल झांसी के बाद से बुंदेलखंड के पूरे क्षेत्र बांदा, महोबा, हमीरपुर, छतरपुर, सागर, पन्ना, सतना और कर्वी इत्यादि जिलों में टिड्डिदल के हमले का खतरा मडरा रहा है। सनद रहे कि टिड्डिदल दुनिया भर में फसलों की बर्बादी का मुख्य कारण बना रहा ह। इससे पहले पडोसी देश पाकिस्तान में टिड्डिदल द्वारा तवाही लंबे समय से मचती आ रही ह। अब यह दल पाकिस्तान के रास्ते भारत मे प्रवेश कर चुका है।

उड़ने वाला कीड़ा है टिड्डी:

देखने मे यह पाया गया है कि यह टिड्डी घास खाने वाले कीड़े की एक प्रजाति है अक्सर इसकी लंबाई दो से ढाई इंच तक होती है। वैसे तो यह अधिकतर हरे घास के मैदानों में बसेरा करती है। विस्थापित होने के बाद से यह हर हरी फसल/घास में अपना भोजन खोजती है और हमले के वक्त यह हज़ारों बीघे में खड़ी फसल मिनटों में चट कर देती है। हमले से बचाव करने के लिए टीन, कनस्तर पटाखों इत्यादि से शोर मचाकर टिड्डी को दूर भगाया जा सकता है। रासायनिक बचाव के लिए क्लोरोपिफॉस, सायपरमैथरीन, लिंडा जैसे रासायनिक पदार्थो का छिड़काव करके टिड्डिदल से बचाव किया जा सकता है।

कृषि वैज्ञानिकों की माने तो टिड्डिदल शाम को 6 से 7 बजे के आस पास जब सूर्य अपने अंतिम चरण में होता है तो यह टिड्डिदल जमीन पर नीचे उतरता है और फसलों पर बैठकर चट करता है और सुबह 8 से 9 बजे के आसपास उड़ान भरता है। प्रशासनिक स्तर पर भी टिड्डिदल से बचाव के उपाय किये जा रहे है हालांकि किसानों से भी बचाव आपेक्षित है।

Hello Bundelkhand ------------------------------------------------------- 📰#अलर्ट बुंदेलखंड के जनपदों में टिड्डी दल का...

Posted by Hello Bundelkhand on Friday, May 22, 2020

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com