उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
तेंदुआ ! प्रतीकात्मक चित्र
तेंदुआ ! प्रतीकात्मक चित्र|Google
देश

बाँदा: मटौन्ध ग्रामीण इलाके में दिखा तेंदुआ, आधा दर्जन ग्रामीणों ने देखने की पुष्टि की। 

एक हफ्ते से घूम रहा है तेंदुआ, फिर भी वन विभाग की नींद नहीं टूटी।  

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

Summary

जैसे-जैसे जंगल समाप्त होते जा रहे है, जंगली जानवरों का आवास सामाप्त हो रहा है, और जानवरों का दखल इंसानी बस्तियों में आ रहा है। यही कारण है कि बाँदा के मध्यप्रदेश सीमावर्ती गांव लोहरा, परमपुरवा में तेंदुआ या चीता देखने की बातें सुनने में आ रही है।

बाँदा के मटौध थाना क्षेत्र ग्राम लोहरा, परमपूरवा, करछा, में तेंदुआ देखने की रिपोर्ट्स मिल रही है लोहरा ग्राम निवासियों ने यह पुष्टि की हम बीती रात अन्यत्र जगह से होकर गांव को लौट रहे थे तभी परमपुरवा गांव के आगे मड़ौली तालाब के पास एक बड़ा विडालवंशी दिखाई दिया, चूँकि ग्रामीण चार पहिया वाहन में थे अतः कोई ज्यादा भय महसूस नहीं हुआ, तेंदुआ थोड़ी देर तो वाहन को देखता रहा और गाड़ी को सूंघने के बाद रास्ते पर आगे बढ़ गया। गाड़ी सवार ग्रामीणों ने जानवर का पीछा किया आखिरकार जानवर मड़ौली तालाब में घुस कर गायब हो गया ग्रामीणों ने तेंदुए का पीछा करने की कोशिश नहीं की।

एक सप्ताह में पांच बार दिख चुका है तेंदुआ

पिछले हफ्ते ग्रामीणों ने तेंदुए को देखने की पांच बार घटनाएं बताई है, फसल ताकते हुए ग्रामीणों ने इस बारे में विस्तार से बताया है, लोगों के अनुसार रास्ते पर चलते हुए ट्रैक्टरों के चालको ने भी वाहन के सामने खड़े होने की बाते बताई है, इस घटना को लेकर ग्रामीणों में भय व्याप्त है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।