कालिंजर महोत्सव 2020
कालिंजर महोत्सव 2020|Google
देश

कालिंजर किले में आज से शुरू हुआ कालिंजर महोत्सव,चारो तरफ मची धूम।

कालिंजर किले के मेले से जिला प्रशासन देश और प्रदेश की योजनाओं के बारे में आमजन को अवगत कराया जाएगा। 

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

बाँदा जिले के विश्वप्रसिद्ध अजेय कालिंजर दुर्ग पर चार दिवसीय कालिंजर मेले का आयोजन कालिंजर महोत्सव के नाम से शुरू हो गया है। जिलाधिकारी ने इस सम्बंध में समस्त जिले और बाहर से आने वाले आगंतुकों को आमंत्रित किया है। किले में सदियों से इस मेले का आयोजन होता चला आ रहा है।इस पर जिलाधिकारी हीरालाल ने इसको बड़े स्तर पर करने का निश्चय लिया जिसकी वजह से अब यह कार्यक्रम केवल मेले तक ही सीमित नहीं रहा बल्कि इसके माध्यम से लोगों को सरकारी योजनाओं, परियोजनाओं, और कार्यक्रमों के बारे में भी जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है।

सदियों पुराना है इतिहास :

दरअसल यह किला भौगोलिक दृष्टि से सदैव मजबूत और महत्वपूर्ण रहा है। इस किले का निर्माण पूर्व में चंदेल शासकों द्वारा कराया गया इसके बाद इसमें तमाम राजवंश आगे पलते बढ़ते रहे। इस किले की महत्ता को देखते हुए शेरशाह सूरी ने इस किले पर अपना कब्जा करने के लिए हमला किया। लेकिन यह दुर्ग अपनी स्थिति के अनुसार बेहद मजबूती के साथ सामना करता रहा।हालाँकि इस युद्ध मे शेरशाह विजयी तो हुआ लेकिन यह युद्ध उसके जीवन का आखिरी विजय अभियान हुआ। और खुद घायल होकर शेरशाह बिहार के सहशाराम में म्रत्यु को प्राप्त हुआ।

मेले में भरपूर मनोरंजन उपलब्ध :

मेले में प्रशासन द्वारा साहित्यिक प्रोग्राम के अलावा तमाम प्रकार के मनोरंजन के साधन जुटाए गए है जिंनमे कुश्ती, गायन ,वादन, नृत्य, और हॉट एयर बैलून जैसे साधन उपलब्ध रहेंगे।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com