Jhansi-Manikpur Railway line Doubling 
Jhansi-Manikpur Railway line Doubling |Google
देश

झांसी से मानिकपुर तक रेलपटरी के दोहरीकरण का कार्य शुरू, मार्च 2023 तक की डेडलाइन। 

रेल लाइन के दोहरीकरण होने के बाद भी कई ट्रेनें इस रूट पर दौड़ने लगेगी। जिसका फायदा हजारों यात्रियों को मिलेगा।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

बुंदेलखंड रेलवे कनेक्टिविटी के मामले में अपनी अहम भूमिका निभाता चला आ रहा है लेकिन पिछले कुछ सालों से यात्रियों की संख्या बढ़ने और यात्री रेलगाड़ियों के सीमित होने की समस्या को लेकर शिकायते आ रही थी। और इन्हीं शिकायतो के बीच माल गाड़ियों के आने और जाने से यात्री ट्रेनों के विलंब में बढ़ोतरी नजर आ रही थी। हालाँकि लंबे समय के आश्वासन के बाद अब झांसी से लेकर मानिकपुर तक की रेल लाइन का दोहरीकरण शुरू हो चुका है जो लगभग मार्च 2023 के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा।

टुकड़ो-टुकड़ो में दोहरीकरण शुरू :

झांसी से लेकर खैरार जंक्शन होते हुए बाँदा के रास्ते मानिकपुर तक की रेलवे लाइन के दोहरीकरण की प्रक्रिया का शुभारंभ हो चुका है। काम की शुरुआत में ही बरुआ सागर से लेकर मऊरानीपुर तक कि 42 किलोमीटर की दूरी को सबसे पहले दोहरा करने के लिए समांतर पटरी बिछाने लिए जमीन को समतल किया जा रहा है। वहीँ इसी क्रम में दूसरे स्थान कुलपहाड़ से महोबा लगभग 52 किमी की दूरी को भी इस प्रकार से समतल किया जा रहा है। गौरतलब हो झांसी से लेकर मानिकपुर के बीच की दूरी लगभग 310 किलोमीटर के आस-पास है जिसको चरणबद्ध तरीके से छह खंडों में बांटा गया है जिसको भिन्न-भिन्न कॉन्ट्रेक्टर के माध्यम से पूरा कराया जाना सुनिश्चित हुआ है।

झांसी-मानिकपुर के अलावा, भीमसेन से खैरार तक भी होगा कार्य :

जहां एक ओर झांसी से लेकर मानिकपुर तक की लाइन को दोहरा करने की प्रक्रिया शुरू हो गयी है इसके साथ ही झांसी मानिकपुर रेलवे लाइन को कानपुर से जोड़ने वाली लाइन खैरार जंक्शन से लेकर भीमसेन तक की लगभग 115 किलोमीटर तक की रेलवे लाइन को भी दोहरा करने के बारे में कार्य शुरू होने की कगार में है यहाँ आपको बताते चले कि दोनों कार्यो के लिए सरकार ने तीन हजार करोड़ रुपये का बजट जारी कर दिया है, जिससे दोनो लाइनों के विकाश में कोई बाधा न आये।

पुलों को बनाने में लगेगा वक्त :

रेलवे के पीआरओ मनोज कुमार सिंह ने रेलवे की योजना के बारे में बात करते हुए बताया कि "इस रेलवे ट्रैक ( झांसी - मानिकपुर) के बीच मे तीन बड़ी और क्षेत्र की मुख्य नदियां बेतवा, केन, धसान पर बड़े पुलों के निर्माण की योजना है इस वजह से ज्यादा समय लगे बिना जल्दी पुल बनकर तैयार हो इसलिए अलग-अलग टेंडर निकाल कर निर्माण कराया जाएगा।

पीआरओ ने बताया कि लाइन के दोहरे होने के कारण बिना रुके ट्रेनों की रफ्तार बढ़ेगी और अवांछित स्टॉप नही होगा।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com