उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
चित्र : मृतक परिजन, और मृतक को शव विच्छेदन के लिए ले जाती हुई पुलिस
चित्र : मृतक परिजन, और मृतक को शव विच्छेदन के लिए ले जाती हुई पुलिस|Uday Bulletin 
देश

महोबा कोतवाली में तैनात दरोगा ने सरकारी आवास में लगाई फांसी !

संदिग्ध अवस्था में दरोगा की मौत।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

पुलिस की कार्यशैली कितनी तनावपूर्ण होती है ये तो जगजाहिर है और ये तनाव कब मौत का कारण बन जाये ये किसी को जानकारी नही है। ऐसे ही महोबा कोतवाली में पदस्थ दरोगा ने छत के पंखे पर फंदे से लटक कर अपनी इहलीला समाप्त कर ली है ।

महोबा जिला कोतवाली के परिसर में आने वाले सरकारी आवास के अंदर पुलिस दरोगा की लाश तीन जनवरी को करीब सुबह नौ बजे संदिग्ध अवस्था मे पंखे पर लटकी पायी गयी।

परिजनों ने मीडिया को बताया कि उक्त दरोगा के विश्राम स्थल में जहां मृतक का शव बरामद हुआ वहीँ पर शराब की खाली बोतले मिली है जिसको लेकर परिजनों ने किसी साजिश की शंका जाहिर की है मृतक दरोगा उत्तर प्रदेश के घाटमपुर जिले के थाना सजेती अंतर्गत गांव कमलापुर के निवासी थे और कुछ दिनों से विभाग में छुट्टियों को लेकर कुछ अनबन चल रही रही थी, परिजनों के अनुसार मृत्यु का एक कारण यह भी हो सकता है।

उसी दिन माँ भी खत्म हुई और बेटा भी :

पिछले कुछ दिनों से मृतक दरोगा की माँ की तबियत खराब थी, जिसको लेकर दरोगा विभाग में छुट्टियों की मांग कर रहे थे, लेकिन उच्चाधिकारियों ने ड्यूटी का हवाला देकर उनकी छुट्टी नामांजूर कर दी और प्राप्त सूचना के अनुसार मृतक दरोगा को 3 जनवरी को सुबह ही यह जानकारी मिली कि उनकी माता जी का देहांत हो गया है, परिजनों के अनुसार अगर इसे आत्महत्या माना जा रहा है तो यह भी एक कारण हो सकता है।

कभी शराब नहीं पी, फिर बोतले कैसे ?

परिजनों के अनुसार मृतक दरोगा बेहद सात्विक प्रव्रत्ति के थे तथा कभी भी शराब को हाँथ भी नहीं लगाते थे लेकिन मौत के वक्त कमरे में शराब की बोतलों का मिलना तमाम शंकाएं पैदा कर रहा है, परिजनों ने इस मामले को लेकर जांच की मांग की है।

जल्द ही था रिटायरमेंट :

परिजनों ने मीडिया को बताया कि मृतक दरोगा अपनी सेवानिवृत्ति के अंतिम समय मे थे और इसी साल के अंत तक उन्हें अपनी सेवाओं से मुक्त होना था लेकिन इस घटना से पूरा परिवार सकते में है।

वहीँ स्थानीय पुकिस ने बिना किसी आशंका के मामले को आत्महत्या करार किया है जिला कोतवाली पुलिस ने मौके पर मृतक के मोबाइल को जब्त कर लिया है जबकि परिजनों के अनुसार मोबाइल के साथ उन्हें छेड़छाड़ की आशंका है क्योंकि पुलिस ने मोबाइल को उनके सामने नहीं सील किया है और पुलिस ने छुट्टी न मिलने की बात को भी कोरी अफवाह बताया है।