उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
भारतीय रिजर्व बैंक
भारतीय रिजर्व बैंक|IANS
देश

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 9.42 करोड़ डॉलर घटा, निर्यात के अवसर तलाशने होंगे - RBI 

देश का विदेशी पूंजी भंडार 26 अक्टूबर को 9.42 करोड़ डॉलर घटकर 393.52 अरब डॉलर हो गया, जो 28,861.7 अरब रुपये के बराबर है।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली | देश का विदेशी पूंजी भंडार 26 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में 9.42 करोड़ डॉलर घटकर 393.52 अरब डॉलर हो गया, जो 28,861.7 अरब रुपये के बराबर है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की ओर से जारी साप्ताहिक आंकड़े के अनुसार, विदेशी पूंजी भंडार का सबसे बड़ा घटक विदेशी मुद्रा भंडार आलोच्य सप्ताह में 9.22 करोड़ डॉलर घटकर 369.07 अरब डॉलर हो गया, जो 27,084.6 अरब रुपये के बराबर है।

रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया के मुताबिक, विदेशी मुद्रा भंडार को डॉलर में व्यक्त किया जाता है और इस पर भंडार में मौजूद पाउंड, स्टर्लिग, येन जैसी अंतर्राष्ट्रीय मुद्राओं के मूल्यों में होने वाले उतार-चढ़ाव का सीधा असर पड़ता है।

  • आलोच्य अवधि में देश का स्वर्ण भंडार 20.52 अरब डॉलर रहा, जो 1,488.9 अरब रुपये के बराबर है।
  • इस दौरान, देश के विशेष निकासी अधिकार (एसडीआर) का मूल्य 73 लाख डॉलर घटकर 1.46 अरब डॉलर हो गया, जो 107.6 अरब रुपये के बराबर है।
  • अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) में देश के मौजूदा भंडार का मूल्य 1.23 करोड़ डॉलर घटकर 2.45 अरब डॉलर दर्ज किया गया, जो 180.6 अरब रुपये के बराबर है।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की ओर से जारी साप्ताहिक आंकड़े के बाद, वाणिज्य मंत्रालय ने निर्यातकों को प्रोत्साहन देने का विचार किया है। देश के निर्यात को बढ़ावा देने के लिये वाणिज्य मंत्रालय एक व्यापक रणनीति पर काम करेगी , जिसमें वह निर्यातकों को प्रोत्साहन देने पर विचार कर रहा है। एक सरकारी अधिकारी ने शुक्रवार को यह बात कही।

उन्होंने कहा कि वाणिज्य मंत्रालय ने इंजीनियरिंग, रत्न एवं आभूषण, रसायन, वस्त्र और फार्मा समेत विशेष क्षेत्रों के लिये कार्य योजना तैयार की गई है और इन क्षेत्रों से जुड़ी दिक्कतें संबंधित विभाग के साथ उठाई जा रही है।

  • केंद्रीय जीएसटी (सीजीएसटी) नियमों में संशोधन वापस लेने जैसी कुछ समस्याएं है, जिनको आंशिक रूप से हल किया गया है।
  • मंत्रालय कर में छूट और शुल्क को लेकर भी काम कर रहा है।
  • अफ्रीका और लैटिन अमेरिका जैसे नए बाजारों में निर्यात के अवसरों तलाशने के लिये उद्योग को अधिक आक्रामक बनाया जायेगा।
  • उन्होंने कहा कि निर्यात को बढ़ावा देने के लिये मंत्रालय की ओर से तैयार कार्य योजना को जल्द जारी किया जायेगा।