Auraiya Murder 
Auraiya Murder |Google 
देश

उप्र के औरेया में वर्चस्व की जंग में दो लोगों की गई जान, सपा नेता गिरफ्तार।

उत्तर प्रदेश के औरैया जिले में सपा एमएलसी कमलेश पाठक और अधिवक्ता मंजुल चौबे की बीच वर्चस्व की जंग खूनी संघर्ष में तब्दील हो गई।

Deo Prakash Kushwaha

Deo Prakash Kushwaha

कमलेश पाठक समाजवादी पार्टी के एमएलसी हैं और क्षेत्र में दवंगई का इनका पुराना रिकॉर्ड है, आये दिन जमीन पर कब्ज़ा करना, लोगों को धमकाना इनके लिए आम बात है। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक सपा शासन में राज्यमंत्री का दर्जा रखने वाले एमएलसी कमलेश पाठक अपने भाई और कुछ अन्य लोगों के साथ पूजन के लिए मंदिर पहुंचे। इस जानकारी पर पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष अधिवक्ता मंजुल चौबे भी परिजनों व कुछ लोगों के साथ वहां पहुंच गए। चौबे के साथियों ने कमलेश के मंदिर में आने पर आपत्ति की। दोनों के बीच कहासुनी में एक-दूसरे को गोली से उड़ा देने की धमकियां दी जाने लगीं। आमने-सामने आने पर चली गोलियों में घिरकर अधिवक्ता और उनकी चचेरी बहन की जान चली गई। इस मामले में पुलिस ने सपा एमएलसी और उनके भाई को गिरफ्तार किया है।

आरोप है कि कमलेश पाठक के भाई पूर्व ब्लॉक प्रमुख संतोष पाठक ने अपनी लाइसेंसी राइफल से गोलियां चलाईं थीं। इन गोलियों की चपेट में आकर मंजुल चौबे का बड़ा भाई संजय और मंदिर के बाहर सड़क से निकल रहे अधिवक्ता अजीत कुमार पुत्र रामनिवास निवासी नरायनपुर भी घायल हो गए।

पुलिस अधीक्षक (superintendent of police) सुनीति ने बताया कि गोलीबारी कांड में पुलिस ने 11 लोगों पर रिपोर्ट दर्ज करते हुए एमएलसी कमलेश पाठक, उनके भाई संतोष पाठक, रामू पाठक और हनुमान मंदिर के कथावाचक राजेश शुक्ला समेत छह को गिरफ्तार किया है। दोनों पक्षों के समर्थकों के बीच तनाव के चलते मंजुल चौबे के मोहल्ले नारायनपुर और कमलेश पाठक के आवासीय क्षेत्र बनारसीदास मोहल्ले में पुलिस तैनात की है।

आईजी मोहित अग्रवाल का कहना है कि एमएलसी पर कई जमीन पर कब्जा करने की शिकायत है। इसकी जानकारी शासन को दे दी गई है। शासन ने जांच के आदेश दिये है। टीम बनाकर जांच की जाएगी।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com