Chandrababu Naidu hunger strike
Chandrababu Naidu hunger strike |Twitter
देश

Live- Naidu Hunger Strike: मोदी के खिलाफ धरने पर बैठे चंद्रबाबू नायडू, हैदराबाद को दिलाएंगे विशेष राज्य का दर्जा

Chandrababu Naidu hunger strike: चंद्रबाबू नायडू सुबह आठ बजे से दिल्ली के आंध्र भवन में भूख हड़ताल पर बैठे हुए हैं। वह रात आठ बजे तक यहां बैठेंगे।राहुल गांधी ने उनका समर्थन किया है। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने अपने राज्य को विशेष दर्जा दिलाने और आंध्र प्रदेश पुनर्गठन अधिनियम, 2014 के तहत केंद्र द्वारा किए गए अन्य वादों को पूरा किए जाने की मांग के साथ यहां 12 घंटे का अनशन शुरू कर दिया है। काले रंग की शर्ट पहने तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) के अध्यक्ष ने आंध्र प्रदेश भवन में 'धर्म पोराता दीक्षा' शुरू किया। राजघाट पर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद नायडू अन्य तेदेपा नेताओं के साथ आंध्र प्रदेश भवन पहुंचे और बाबा साहेब भीमराव आम्बेडर की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के बाद विरोध प्रदर्शन शुरू किया।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, चंद्रबाबू नायडू की भूख हड़ताल का समर्थन करने आंध्र प्रदेश भवन पहुंचे वहां उन्होंने कहा कि, मैं आंध्र प्रदेश के लोगों के साथ खड़ा हूं। प्रधानमंत्री पर हमला करते हुए राहुल ने कहा कि, वह किस तरह का पीएम है? उन्होंने आंध्र प्रदेश के लोगों से जो वादे किये थे उसे पूरा नहीं किया। मोदी, जहां भी जाते हैं झूठ बोलते हैं। उनमें कोई विश्वसनीयता नहीं बची है।

दिल्ली : आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री तथा तेलुगूदेशम पार्टी (TDP) के प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू द्वारा आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जा दिए जाने की मांग को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ आंध्र प्रदेश भवन पर की जा रही एक दिन की भूख हड़ताल के दौरान नेशनल कॉन्फ्रेंस (NC) के नेता डॉ फारुक अब्दुल्ला तथा राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के मजीद मेमन।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू ने कहा, "अगर आप हमारी मांगों को पूरा नहीं करते हैं, तो हम जानते हैं, उन्हें कैसे पूरा करवाया जा सकता है... यह आंध्र प्रदेश की जनता के आत्मसम्मान के बारे में है... जब हमारे आत्मसम्मान पर हमला किया जाएगा, हम बर्दाश्त नहीं करेंगे... मैं इस सरकार को, खासतौर से प्रधानमंत्री को चेतावनी देता हूं कि एक व्यक्ति पर हमले बंद किए जाएं..."

चंद्रबाबू नायडू सहयोगियों के साथ अनशन पर

नायडू के कैबिनेट सहयोगी, सांसद, राज्य के विधायक और छात्र और कर्मचारी समूह और जन संगठनों के नेता भी उनके साथ उपवास पर बैठे हैं। नायडू के साथ 12 घंटे लंबे विरोध प्रदर्शन में बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी भी शामिल हुए हैं। वे राज्य सरकार द्वारा किराए पर ली गई दो विशेष रेलगाड़ियों द्वारा राष्ट्रीय राजधानी पहुंचे। कई गैर-भाजपा दलों के नेताओं से नायडू से मिलने और उनके साथ एकजुटता व्यक्त करने की उम्मीद है। तेदेपा ने पिछले साल भाजपा की अगुवाई वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार से समर्थन वापस ले लिया था। नायडू मंगलवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को एक ज्ञापन सौंपेंगे।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com