उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस|Image credit : Wikipedia
देश

हिंदी वर्णमाला “अ” अनार से प्रारंभ होती है और अंत में “ज्ञ” से ज्ञानी बनाती है !

हिंदी दिवस

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

Summary

किसी कॉल सेंटर में फोन करके देखिए फ़ॉर इंग्लिश प्रेस वन एंड हिंदी के लिए दो दबाएँ !

जनाब हर जगह का हाल है ,जहां आपके देखते ही देखते आपकी मातृभाषा को दोयम दर्जे की भाषा का तमगा दे दिया जाता है , और आप पूर्व संरक्षित अमानवीय आवाज के सामने भी शर्मा कर अंग्रेजी का चयन करके अपनी योग्यता का सर्टिफिकेट फेंक मारते हैं , हालाँकि वहाँ आपकी योग्यता निर्धारित करने के लिए कोई नही बैठा और ना ही आपको कोई इनाम दिया जाएगा लेकिन फिर भी इसी चक्कर मे पड़कर आपकी कॉल सीधे उस ग्राहक सेवा अधिकारी के पास भेज दी जाती है जो आंग्लभाषा में पारंगत है ,फिर शुरू होती है फजीहत, जहाँ सामने वाला धाराप्रवाह वाक्य बोलता है और आप जुट जाते है नाउन प्रो नाउन ,के फेर में एक्टिव, पैसिव आपके सामने चिढ़ाते हुए निकल जाते है और डायरेक्ट इनडायरेक्ट आपको धकियाते ,

लेकिन हम और आप ठहरे पक्के बेशर्म फिर भी लग जाते है सेंटेंस संभालने में ,

क्या वो रिकॉर्डेड वायस बोलने वाली मोहतरमा आपको ज्यादा तरजीह देगी या आपकी समस्या को ज्यादा गौर से सुना जाएगा |

खैर ये तो हुई रोजमर्रा की बात ,अब बात वरिष्ठता की ,कुछ दिन पहले एक टेक-निर्माता कंपनी का वायरल वीडियो देखा था , एक नन्ही सी बिटिया अपनी अम्मी से बोलते हुए सुनाई देती है "अम्मी स्कूल में अपने सपने को इंग्लिश में लिखने के लिए कहा गया था ,अब आप ही बताओ हम कहाँ देखते है अंग्रेजी में सपने ?"

ये वाक्य गर्व, शर्म, दृढ़ता, कायरता, ओर बोझ जैसी स्थिति में ला देता है

आखिर हम क्यो हो जाते है हिंदी में कमजोर?

माना कि अंग्रेजी वैश्विक भाषा है, जरूरत है लेकिन किस हद तक ?

यकीन मानिए ये वही स्थिति है जब आप पड़ोस की माता जी के सम्मान में अपनी जननी को नकार दे........

इसका भावार्थ यह कभी नही की हम अन्य भाषाओं का अनादर करने की चेष्टा रखते है ,सम्मान है किंतु सबसे पहले मातृभाषा |

एडवाइस नही सलाह है......हिंदी सरल है, सहज है, मृदु है, सौम्य है, अकारण ही प्रेमरसयुक्त है ,कोशिश करिये सुगम हो जाएगी, हिंदी वर्णमाला “अ” अनार से प्रारंभ होती है और अंत मे “ज्ञ” से ज्ञानी बनाती है |

आइए प्रण ले कि अन्य भाषाओं के सम्मान के साथ मातृभाषा हिंदी का प्रयोग ,उपयोग, और उपभोग भरपूर मात्रा में करेंगे |

क्योकि आप भारत मे रहते है , इंडिया में नही |