Heavy rain with hail in Bundelkhand
Heavy rain with hail in Bundelkhand|Social Media
देश

बुंदेलखंड में आसमान से हुई आफत की बारिस, फसलें लगभग खत्म, किसानों के हालात बद से बदतर हो सकते है। 

दोपहर ढलते ही बुंदेलखंड में आसमान काले-काले बादलों से ढका नजर आने लगा, जो किसान फसल में पानी की कमी को लेकर आसमान की ओर नजर गड़ाए बैठे थे उन्हें आसमान ने तोहफो के साथ दर्द की सौगात बख़्श दी। 

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

12 दिसबंर का दिन, दोपहर के दो बजे के आसपास बुंदेलखंड के लगभग सभी जिलो जिसमे जालौन, हमीरपुर, महोबा, बाँदा, कर्वी समेत अन्य सीमावर्ती जिलो में अचानक से काले बादलों की घटाए छा गयी, पानी की मार झेल रहे बुंदेलखंड की आस पानी को लेकर जगी, जैसे-तैसे आसमान से पानी की बूंदे रह रह कर गिरती रही और किसान अच्छी फसल की उम्मीद पर कायम रहे, लेकिन जैसे ही ये वक्त शाम के 5 बजे के आस-पास का हुआ, शाम के वक्त ही माहौल रात के बारह बजे के आस पास से लगने लगा और पानी की नन्ही बूंदों के साथ ओलावृष्टि अपने पूरे जोर से होने लगी जिसकी वजह से बुंदेलखंड के कुछ जगहों पर तो करीब 100 प्रतिशत तक फसल का नुकसान हो गया।

ओलो के साथ तेज बारिश ने बिगाड़ा फसल का माहौल :

एक ओर जहां ओले अपनी मार से फसलों के पौधों को तनों से तोड़ रहे थे वही तेज बारिश ने उन्हें मिट्टी में मिलाने का काम किया जिसकी वजह से किसी हालात में बची खुची फसल मिट्टी में दफन होने को मजबूर हुई, और नतीजा यह हुआ कि जब सुबह पानी के बंद होने के बाद फसल का मुआयना किया गया तो खेतो से फसलों का नामोनिशान मिट चुका था।

आत्महत्याओं की बढ़ेगी संख्या :

एक ओर जहां बुंदेलखंड के किसान प्रकृति की उपेक्षा का शिकार है वहीँ देश और प्रदेश की सरकारे इसी बुंदेलखंड से लाखो करोड़ो का राजस्व कमाने के बाद भी किसानों के लिए कुछ भी नहीं उपलब्ध करा पाती हैं, राहत के नाम पर कुछ पैसो के चेक पकड़ाकर अपना पल्ला झाड़ लिया जाएगा, शायद लंबे समय से शांत बुंदेलखंड इस फसल के बाद ही आत्महत्याओं का दौर दोहराएगा।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com