Gorakhpur Rape Case
Gorakhpur Rape Case|Google
देश

गोरखपुर रेप कांड ने बदला रुख, सीसीटीवी की जांच में हुआ खुलासा 

अगर सही खुलासा नहीं हो पाता तो उत्तर प्रदेश पुलिस कहीं मुँह दिखाने लायक भी नहीं बचती।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

उत्तर प्रदेश पुलिस अपने कारनामों के लिए भले ही कितनी बदनाम हो लेकिन जब जिम्मेदार विभागों पर बलात्कार जैसे संगीन आरोप लगाए जाते है तो समाज का इस विभाग पर से भरोसा उठने लगता है।गोरखपुर रेप कांड जैसे मामलों ने विभाग को घुटनों पर ला दिया था, लेकिन अब इस मामले पर कुछ अलग ही खुलासा हुआ है, जिसमें पीड़िता द्वारा पुलिस पर जो आरोप लगाए गए थे वो सिर्फ एक अंदाजा था।

क्या हुआ था मामला :

14 फरवरी के दिन 20 वर्षीय महिला ने पुलिस थाने पहुँच कर एफआईआर दर्ज कराई की उसके साथ दो पुलिसकर्मियों ने रेप जैसी वारदात को अंजाम दिया गया है। दरअसल ये मामला 13 फरवरी है, जहां पीड़िता ने तहरीर में अपनी कहानी पुलिस को बताई।

पेंच पुलिस पर फस गया और जनता ने अलग रिएक्शन दिए :

चूँकि रेप जैसे जघन्य अपराध में पुलिस का नाम आना चौकानें जैसा है, जिस विभाग के ऊपर समाज को सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी होती है उसके ऊपर ही यह आरोप लगाया गया। लोगों ने इस मामले को जरूरत से ज्यादा हाइप देकर जोर-शोर से उठाया।

एक फैन क्लब ट्विटर एकाउंट ने तो हैदराबाद पुलिस की घटना को दोहराने की बात तक कह दी।

लेकिन असल मामला यह था ही नहीं :

ऐसा नहीं कि 20 वर्षीय लड़की के साथ दुराचार हुआ ही नहीं है, बल्कि मेडिकल परीक्षण में यह साफ हो गया कि 13 फरवरी को लड़की से साथ जबरन बलात्कार किया गया है, जांच में दो व्यक्तियों के शामिल होने की पुष्टि भी हो चुकी है, लेकिन जैसा कि लड़की ने बताया था कि उसके साथ इस वारदात को पुलिसकर्मियों के द्वारा किया गया है इसको लेकर विभाग सकते में था। इसलिए पीड़िता की निशानदेही पर आरोपियों की तलाश शुरू हुई जिसके तहत पुलिस को एक सीसीटीवी फुटेज मिला जिसके जरिये सारा मामला आईने की तरह साफ हो गया।

मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव थे दोनो आरोपी :

दरअसल बलात्कार को अंजाम देने वाले दोनो आरोपी कोई पुलिसकर्मी नहीं थे बल्कि दोनों व्यक्ति मेडिकल क्षेत्र से जुड़े हुए थे।13 फरवरी को दोनों व्यक्तियों ने अकेले जाती हुई महिला को वेश्यावृत्ति करने वाली महिला बताकर उसे जबरन अपनी मोटरसाइकिल पर बैठाया और रेलवे स्टेशन के पास एक होटल में ले जाकर जबरन बलात्कार किया। यहाँ पर दोनो आरोपियों ने दुष्कर्म के बाद महिला को देहव्यापार से जुड़ा हुआ मानकर पैसे भी दिए।

हालांकि जांच के बाद गोरखपुर पुलिस ने मामले में प्रयुक्त मोटरसाइकिल और एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है और दूसरे की गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे हैं। यहां आपको एक बिंदु बताना आवश्यक होगा कि दोनों आरोपी एक ही पेशे से थे और जूनियर सीनियर थे इसलिए एक आरोपी दूसरे से सर कहकर बात कर रहा था। इसी के आधार पर महिला ने दोनों को पुलिसकर्मी समझ कर मुकदमा पंजीकृत कराया था।

गिरफ्तारी पर गोरखपुर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने प्रेसवार्ता करते हुए मामले की पूरी जानकारी उपलब्ध कराई।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com