उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Ganja Smugglers Arrested  
Ganja Smugglers Arrested  |Social Media
देश

बाँदा में धरे गए गांजा तस्कर, गांजा की बड़ी खेप पकड़ी गई

पुलिस ने एक कुंटल 311 ग्राम गांजा बरामद किया

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

Summary

बाँदा में नशे का कारोबार बालू अर्थात रेत के बाद सबसे बड़ा मुनाफे का व्यापार है, जिससे तमाम सफेदपोश अपने रसूख के दम पर जिले के लोगों को नशेड़ी बनाने पर तुले है, इसी क्रम में बाँदा के तिंदवारी में गांजे की भारी मात्रा पुलिस ने तस्करों समेत जब्त की है।

बाँदा के तिंदवारी कस्बे का बबेरू चौराहा इलाका, जो दिन भर चारो तरफ के आने जाने वालों की भीड़ से भरा रहता है, लेकिन सात जनवरी के दिन तिंदवारी पुलिस और बाँदा अपराध शाखा अपने मुखबिरों के साथ लोगों पर आंखे गड़ाए हुए बैठी थी, तभी सूचना तंत्र में कुछ हलचल सी नजर आयी और पुलिस पहले से ज्यादा चौकन्ना होकर आने जाने वालों पर नजर रखने लगी।

सफेद एसयूवी को पुलिस ने रोका, और तलाशी हुई :

पुलिस ने इशारे पर बाँदा की ओर जाती हुई एक्सयूवी कार को रोककर कागजात की पूंछताछ की, गाड़ी चालक एवं सवार शिव शंकर और अमित सिंह से गाड़ी के कागजात समेत अन्य दस्तावेजों की मांग की, लेकिन पुलिस को देखकर दोनो व्यक्तियों के चेहरों का रंग उड़ गया, पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए गाड़ी की तलाशी ली तो पुलिसकर्मी दंग रह गए, गाड़ी में एक क्विंटल तीन सौ ग्राम सूखे गांजे की मात्रा बरामद हुई, पुलिस ने दोनो आरोपियों को मय गाड़ी और प्रतिबंधित मादक पदार्थ गांजा सहित कब्जे में लिया।

रायबरेली से आकर बाँदा में बेचते थे गांजा :

दरअसल दोनो आरोपी ग्राम दुसौली महराजगंज जिला रायबरेली के निवासी है, पुलिस द्वारा पूंछताछ में दोनो आरोपियों ने कुबूल किया कि वह इससे पहले भी कई बार जिले में गांजा की डिलीवरी कर चुके है, इस बार खरीददारों के बीच डील न हो पाने की वजह से दूसरे ग्राहकों की तलाश में घूम रहे थे तभी पुलिस ने मौके पर से पीछा कर के दबोच लिया। यहाँ अपराध शाखा यह जानकारी जुटाने में जुटी है कि की इस घटना के पहले आरोपियों ने जिन लोगो के पास माल दिया है उनकी पहचान करने की कोशिश की जा रही है।

Banda Police Press Note
Banda Police Press Note
Social Media

इस खुलासे में भी लोगो की राय अलग :

हालाँकि पुलिस ने जिस प्रकार से आरोपियों को पकड़ा है वो वास्तव में उत्साहित करने वाला है। लेकिन स्थानीय लोगों ने इस घटनाक्रम पर भी उंगलियां उठायी है, लोगों के अनुसार यह मामला पार्टनरशिप का है। लोगों ने नाम न लिखने की शर्त पर बताया कि जो लोग मुखबिर का काम कर रहे थे वो कोई और नहीं बल्कि वही लोग हो सकते है जो इस रैकेट से जुड़े हुए थे, लेकिन हिस्सेदारी और लाभ को लेकर विरोध होने पर मुखबिरी पर उतर आए।

ये रही पकड़ने वाली टीम :

गिरफ्तार करने वाली टीम में थाना प्रभारी निरीक्षक तिंदवारी नीरज कुमार सिंह, स्वात प्रभारी एमपी त्रिपाठी बाँदा, एसआई मयंक सिंह स्वात टीम, हेड कांस्टेबल योगेंद्र सिंह स्वात, कांस्टेबल भानू प्रकाश स्वात, सिपाही शैलेंद्र कुमार स्वात, सिपाही अभय यादव थाना तिंदवारी, आरक्षी शुभम थाना तिंदवारी , दल में शामिल टीम को शाबाशी मिल रही है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।