प्रियंका गांधी ने यूपी सरकार को उपलब्ध कराया बसों का डाटा, हुआ बवाल

लोग इसे मजदूरों के साथ होने वाले मजाक की तरह देख रहे हैं, लोगों के अनुसार कांग्रेस इस वक्त में भी आम लोगों के साथ अपनी राजनीति चमकाने में लगी हुई है।लेकिन यूपी सरकार ने इसकी कलई खोल दी है।
प्रियंका गांधी ने यूपी सरकार को उपलब्ध कराया बसों का डाटा, हुआ बवाल
buses list by congressGoogle Image

बसों के बेड़े में टेम्पो, बाइक, एम्बूलेंस, कार शामिल :

दरअसल ये मामला शुरू हुआ यूपी सरकार के एक फरमान से, सरकार ने दूसरे प्रदेश से आने वाले श्रमिकों को आदेश दिया कि अब कोई भी व्यक्ति बिना जांच पड़ताल के उत्तर प्रदेश में नहीं आ पायेगा। इसके लिए उन्हें उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा संचालित बसों, ट्रेनों के माध्यम से आना पड़ेगा ताकि उनकी स्क्रीनिंग आदि कराई जा सके। लेकिन उत्तर प्रदेश की सीमाओं और अन्य राज्यो में फसे हुए लोगों का हुजूम बढ़ने लगा। इस पर कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने मौका देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार को एक सलाह दे डाली कि हमारी लगभग 1000 बसें उत्तर प्रदेश सीमा पर तैनात है। अगर उत्तर प्रदेश सरकार अनुमति देती है तो हम सभी मजदूरों को सकुशल घर पहुचायेंगे। इस पर उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रियंका गांधी वाड्रा से बसों और ड्राइवरों के बारे में जानकारी मांग ली और यहीं सारा खेल खराब हो गया। दरअसल जो लिस्ट कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश सरकार को उपलब्ध कराई उसमें कई वाहनों का रजिस्ट्रेशन नम्बर देश के किसी डेटाबेस में मिला ही नहीं और इसके साथ ही बसों के वाहन नम्बर की जगह एम्बूलेंस, टेम्पो, डीसीएम, टाटा मैजिक, ऑटो इत्यादि पाए गए। जिसको लेकर कांग्रेस पार्टी की जगहंसाई होना शुरू हो चुकी है।

प्रियंका गांधी वाड्रा के द्वारा उत्तर प्रदेश सरकार से की गई अपील:

सरकार की अनुमति के बाद प्रियंका ने धन्यवाद दिया:

लेकिन असल बवाल तो ट्विटर पर फैल रहा था :

बसों की लिस्ट में विसंगति पाए जाने के बाद सोशल मीडिया पर उबाल सा आ गया, लोग इसे मजदूरों के साथ होने वाला मजाक करार देने लगे कुछ लोगों ने इसे बस घोटाला तक कह दिया।

वहीँ इस मामले पर प्रोटेस्ट करते हुए कांग्रेस कार्यकर्ताओं समेत प्रियंका गांधी के निजी सचिव पर लखनऊ के हजरत गंज थाने में एफआईआर तक दर्ज करा दी गयी है:

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com