Ramayan
Ramayan|Google
देश

दूरदर्शन के लिए संजीवनी बने पुराने धारावाहिक, लंबा चलेगा यह ट्रेंड

अगर यह कहा जाए कि रामायण धारावाहिक ने दूरदर्शन के बीते स्वर्णिम दिन वापस कर दिया है तो यह अतिश्योक्ति नहीं होगी। दूरदर्शन की देखादेखी तमामं अन्य चैनलों ने भी प्रयोग करने शुरू कर दिए है। 

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

टीआरपी ने तोड़े रिकार्ड :

दरअसल दूरदर्शन की खस्ता हालत किसी से छुपी नहीं है बल्कि एक वक्त तो यह आया की हाई क्वालिटी के अन्य चैनल्स के फेर में पड़कर दूरदर्शन खुद के लिए दर्शकों को टोटा पड़ गया, यही कारण था कि दूरदर्शन के पास उम्दा कॉन्टेंट की कमी सी हो गयी। लेकिन अगर वर्तमान के हालातों को देखा जाए तो रामानंद कृत रामायण ने सभी बेहतरीन तकनीकी युक्त धारावाहिकों को पीछे धकेलते हुए पिछले पांच वर्ष के रिकार्ड ध्वस्त करके रख दिये। यही नहीं इस दौरान प्रसारित महाभारत और चाणक्य धारावाहिकों ने भी पूरे टीवी समाज को अपनी तरफ आकर्षित किया है।

लोगों का बदला है टेस्ट:

दरअसल वही पुरानी और उबाऊ कहानियों से जनता त्रस्त हो चुकी है। टीवी में रोजाना प्रसारित होने वाले सीरियलो से ऊब चुके थे, चूंकि जनता लॉक डाउन में वही रिपीट सीरियल्स को देखने मे यकीन नही रखती और जनता के एक बहुत बड़े धड़े ने दूरदर्शन से डिमांड की वह लॉक डाउन के दौरान रामायण और महाभारत जैसे धारावाहिक दिखाए और इसका नतीजा यह हुआ कि बड़ी बड़ी तकनीकी वाले सीरियल्स आज जमीन पर नजर आ रहे है।

दूरदर्शन जारी रख सकता है ट्रेंड :

अगर जानकारो की माने तो इन दिनों में हो रहे चमत्कार के मद्देनजर दूरदर्शन अपना ट्रेंड जारी रख सकता है। ऐसा लगता है मानो दूरदर्शन को जनता की नब्ज पकड़ में आ चुकी है तो इसी ट्रेंड को बरकार रखते हुए दूरदर्शन लॉक डाउन के बाद भी अपने पुराने धारावाहिक श्री कृष्णा, गीता रहस्य, विष्णु पुराण, ओम नमः शिवाय, चन्द्रकान्ता, युग, इत्यादि धारावाहिकों को पुनः प्रसारित कर सकता है, दूरदर्शन के चलते सोनी जैसे निजी चैनल ने भी विद्या बालन अभिनीत धारावाहिक हम पांच का पुनः प्रसारण किया है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com