उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Mahatma gandhi Bharat Ratna Award
Mahatma gandhi Bharat Ratna Award|Google 
देश

गांधी किसी रत्न के मोहताज नहीं, यह कहकर सुप्रीम कोर्ट ने महात्मा गांधी को भारत रत्न दिलाने वाली याचिका खारिज की। 

सुप्रीम कोर्ट ने कहा महात्मा गाँधी को भारत रत्न देने की कोई जरुरत नहीं।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

Summary

आजकल जनहित याचिकाओं का चलन है, कोई भी व्यक्ति निजी आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए कोर्ट में याचिकाएं डाल देता है, हालाँकि उसकी बात में कितना वजन है यह कोर्ट ही उन्हें समाझाता है लेकिन इस मामले में सुप्रीम कोर्ट का अच्छा खासा वक्त वरबाद हो जाता है।

मामला महात्मा गांधी को भारत रत्न देने से जुड़ा हुआ है दरअसल महात्मा गांधी को भारत रत्न दिलाने के लिए डाली गई याचिका में याचिकाकर्ता ने सुप्रीमकोर्ट से मांग की वह केंद्र सरकार को या तो आदेश जारी करे या फिर उचित निर्देश दे ताकि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को भारतरत्न दिया जाए।

हालांकि पहली सुनवाई के दौरान ही सुप्रीमकोर्ट ने इस याचिका को खारिज कर दिया, मुख्य न्यायाधीश जस्टिस बोबडे ने अपनी सुनवाई में याचिकाकर्ता को बताया कि महात्मा गांधी राष्ट्रपिता है इससे इनकार नहीं किया जा सकता लेकिन अगर भारतरत्न देने की बात को देखा जाए तो महात्मा गांधी स्वयं में एक बड़ा स्थान रखते है, उन्हें कोई रत्न देकर उनकी गरिमा को नीचा नहीं दिखाया जा सकता, जस्टिस बोबडे ने आगे कहा कि उनकी अपने आप मे एक वैश्विक पहचान है, उन्हें किसी भारतीय आधिकारिक पहचान की आवश्यकता नहीं है।

पहला मामला नही है :

दरअसल अपनी धराओं को भारत रत्न जैसे महत्वपूर्ण पहचान दिलाने के लिए लोग कई बार सरकार पर दबाव बनाने की कोशिश कर चुके है, इसी क्रम में लम्बे समय से भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, जैसे क्रांतिकारियों को भारत रत्न दिलाने की मांग रखी है। लेकिन राजनैतिक सहमति और असहमति के मामले में इनको भारत रत्न देने और न देने के लिए कोई कदम नहीं उठाये गए है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।