उप्र में दलित बच्ची के हत्याकांड और कथित रेप पर पीड़ित परिवार से मिलने आये आप नेता संजय सिंह पर फेंकी गई स्याही
आप नेता संजय सिंह पर दीपक शर्मा ने स्याही फेंकीफोटो: संजय सिंह ट्विटर

उप्र में दलित बच्ची के हत्याकांड और कथित रेप पर पीड़ित परिवार से मिलने आये आप नेता संजय सिंह पर फेंकी गई स्याही

यूपी के हाथरस जिले में दलित युवती के साथ कथित बलात्कार और उसकी मौत के बाद प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार देशभर की विपक्षी पार्टियों के निशाने पर आ गयी है।

संजय सिंह ने इस हरकत को बीजेपी और योगी सरकार द्वारा कराया गया कारनामा घोषित किया है। सांसद संजय सिंह ने योगी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि यह योगी सरकार की स्याह करतूतों को छिपाने की कोशिश है कि यह मामला किसी तरह इस स्याही कांड में दब जाए।

दीपक शर्मा नामक युवक ने फेंकी स्याही:

दरअसल जिस दिन से हाथरस में नेताओं को गांव में जाने और पीड़ित परिवार से मिलने की मोहलत मिली है तभी से कोई न कोई नेता अपने लाव लश्कर के साथ गांव और परिवार के साथ खड़ा हुआ नजर आता है। इससे पहले राहुल गांधी, प्रियंका गांधी ने शुरुआत में पीड़ित परिवार से मिलने की कोशिश की थी उसके बाद लेफ्ट के नेता डेरेक ओ ब्रायन समेत कई नेताओं की पुलिस प्रशासन के साथ झड़प हुई थी।

हालांकि अब जब प्रदेश सरकार ने परिवार से मिलने की छूट दे दी है तभी से गांव में देश भर से आये हुए नेताओं और पत्रकारों का जमावड़ा रहता है। इसी मामले में अपनी राजनीति को तेज करने के लिए आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ( सांसद) भी पहुँच गए। संजय सिंह में पीड़ित परिवार से मुलाकात की और प्रदेश की सत्ता पर काबिज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर जमकर आरोप लगाये उसी दौरान संजय सिंह और उनके सहयोगियों पर दीपक शर्मा नामक युवक ने PFI के दलाल होने का आरोप लगाते हुए काली स्याही फेंक दी, इस दौरान आम आदमी पार्टी के नेता के सहयोगियों ने स्याही फेंकने वाले दीपक शर्मा के साथ मारपीट भी की, तभी पुलिस ने मौके पर पहुँचकर उक्त युवक दीपक शर्मा को अपने कब्जे में ले लिया।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस मामले की निंदा की है:

दीपक ने पीएफआई से जुड़े होने के लगाए आरोप:

इस मामले में आक्रोशित युवक दीपक शर्मा ने आम आदमी पार्टी को पीएफआई से जुड़े होने के आरोप लगाए, इस मामले में एक वीडियो वायरल हुआ है जिसे संभवत किसी मोबाइल द्वारा फिल्माया गया है, वीडियो में आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह पीड़ित परिवार से मुलाकात के बाद पत्रकारों से रूबरू हो रहे थे तभी एक तरफ से दीपक शर्मा ने यह चिल्लाते हुए स्याही डाली "पीएफआई के दलाल वापस जाओ" यह स्याही संजय सिंह के अलावा अन्य आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं के ऊपर पड़ गयी, सनद रहे कि जिस वक्त संजय पर स्याही डाली गई उस वक्त संजय मीडिया से उत्तर प्रदेश की सरकार और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कोस रहे थे।

संजय सिंह ने अपने बयानों में आरोप लगाए की हमने मौके पर जाकर पड़ताल की है और पीड़ित परिवार से हर एक जानकारी ली है लेकिन जैसा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि मामले की सीबीआई जांच की जाएगी उसका कुछ अता पता ही नही है, संजय सिंह ने दीपक शर्मा पर भाजपा, संघ और प्रदेश के प्रशासन से जुड़े होने के आरोप भी लगाए।

कौन है दीपक शर्मा?

भारत मे एक हिंदूवादी संगठन है "राष्ट्र स्वाभिमान दल" इस दल के सदस्य है दीपक शर्मा उसी हाथरस के निवासी है जहां पर मनीषा के साथ यह घटना घटी है, स्याही फेंकने में माहिर माने जाते है फिर चाहे वह वकील कम नेता प्रशांत भूषण हो या फिर जम्मू और कश्मीर के विधायक इंजीनियर रशीद हो, इन्होंने सबके साथ स्याही की होली खेली है।

सोशल मीडिया में खासा जाना माना नाम है और अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहते है, दीपक शर्मा के बयानों के चलते इन्हें उत्तर प्रदेश सरकार ने पुलिस प्रोटेक्शन दी है, हालाँकि अब दीपक शर्मा पुलिस की गिरफ्त में है और दीपक शर्मा के पुलिस गिरफ्त मे होने को भी संजय सिंह ने एक ढोंग बताया है। संजय ने कहा कि जब दीपक एडीजी ला एंड ऑर्डर के साथ दोस्तो की तरह बैठकर बातचीत करता है तो उसको क्या पुलिस कस्टडी?

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com