Yogi Adityanath in Banda
Yogi Adityanath in Banda|Social Media
देश

जिस गौवंश को सीएम योगी ने गुड़ चना खिलाया उसे मरने के बाद कुत्तों ने नोच खाया

उत्तर प्रदेश में लाल फीताशाही का बेहद अच्छा नमूना अगर किसी को देखना हो तो बाँदा इन दिनों इसका सबसे बेहतर मिसाल है

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

Summary

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बाँदा दौरे के पहले ही बाँदा को दुल्हन की तरह सजाने की कोशिश की गई और जिन गौवंशो को कभी पेट भर भूसा नसीब नहीं हुआ वो गुड़ चने से छकाए जा रहे थे।

स्थान बाँदा जिले का तिंदवारी कस्बा जहां उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से चलाए जा रहे कान्हा पशु आश्रय का निरीक्षण उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने किया था, योगी के अधिकारियों की मनमर्जी और कमियां पाने पर ऐसा दोबारा न करने की हिदायत पर छोड़ा गया था, लेकिन इसके बाद भी पशु आश्रय केंद्र पर जिम्मेदारों की लापरवाही नजर आयी है जिसे संवेदनहीनता से जोड़कर देखा जा रहा है।

जिसको गुड़ चना खिलाने की कोशिश की, वो अगले ही दिन मर गया :

साहब मुख्यमंत्री जी आये हों और अपने आप को साफ सुथरा और ईमानदार दिखाने की कोशिश न हो ऐसा हो ही नही सकता, दरअसल योगी आदित्यनाथ ने निरीक्षण के वक्त सरकारी कर्मचारी और अधिकारी हांथो में चने और गुड़ का तसला लिए नजर आ रहे थे, सारे जानवरों को यही गुड़ चना खिलाकर मुख्यमंत्री को खुश करने की कोशिश की जा रही थी।

लेकिन इसका एक अलग नज़ारा निरीक्षण के दूसरे दिन देखने को मिला, जब सर्दी खाये नवजात बछड़े ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया तो फर्जी के सरदर्द से बचने के लिए पशु आश्रय केंद्र के कर्मचारियों ने बछड़े के शव को आश्रय स्थान के बाहर ही खुले में फेंक दिया, जिसकी वजह ने बछड़े के शव से कुत्ते अपना पेट भरते नजर आए।

ग्रामीणों ने इसको लेकर आश्रय केंद्र के कर्मचारियों से विरोध दर्ज कराया।

साफ सुथरा दिखाने के चक्कर में मारा गया नवजात :

दरअसल मुख्यमंत्री जी को ऐसा लगे कि इस केंद्र में पशुओं का बेहद खयाल रखा जा रहा है इसके चक्कर मे जानवरों को भरी सर्दी के दौरान ठंडे पानी से नहलाया गया ओर यही वजह रही कि नन्हें नवजात इस सर्दी को सह नही पाए, इसी सर्दी को लेकर स्थानीय लोगों का कहना है कि ठंड से परेशान जानवर मुख्यमंत्री के सामने कुछ भी खा नही पाए थे।

योगी ने कर्मचारियों को चेताया था :

योगी आदित्यनाथ ने जानवरों को जब चना और गुड़ खिलाने का प्रयास किया तब जानवरों ने इन सब वस्तुओं को नहीं खाया था, इसको लेकर योगी खुद अधिकारियों से यह कहते नजर आए थे कि "जब कभी खिलाया ही नहीं गया होगा तो आज क्या खाएंगे"

  • नोट: बछड़े के शव की स्थिति छत-विछत होने के कारण चित्र नही दिखाया जा रहा !

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com