उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी|IANS
देश

पूर्व सैन्य अधिकारी के ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ वाले बयान पर बोले राहुल, चुनाव जीतनेके लिए मोदी जी करते हैं ऐसा 

प्रधानमंत्री मोदी ने सर्जिकल स्ट्राइक का उपयोग राजनीतिक लाभ के लिए किया और राफेल सौदे का इस्तेमाल अनिल अंबानी की पूंजी बढ़ाने के लिए किया।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: पूर्व अधिकारी लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) डीएस हुड्डा के एक कथित बयान जिसमें उन्होंने कहा था कि 'सर्जिकल स्ट्राइक की सफलता पर शुरुआती उत्साह स्वाभाविक था मगर इसका जरूरत से ज्यादा प्रचार किया गया था ' को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला और दावा किया कि मोदी ने सेना का इस्तेमाल राजनीतिक लाभ के लिए किया और इस पर ‘‘उन्हें कोई शर्म नहीं है।’’

दरअसल, पूर्व आर्मी अधिकारी डीएस हुड्डा ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक की सफलता पर शुरुआती उत्साह स्वाभाविक था मगर इसका जरूरत से ज्यादा प्रचार किया गया, जो अनुचित था। उन्होंने कहा कि ''मुझे लगता है कि इस मामले को जरूरत से ज्यादा तूल दिया गया। सेना का ऑपरेशन जरूरी था और हमें यह करना था। अब इसका कितना राजनीतिकरण होना चाहिए, वह सही है या गलत, यह ऐसा सवाल है, जो राजनेताओं से पूछा जाना चाहिए।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने यह भी दावा किया कि प्रधानमंत्री मोदी ने सर्जिकल स्ट्राइक का उपयोग राजनीतिक लाभ के लिए किया और राफेल सौदे का इस्तेमाल अनिल अंबानी की पूंजी बढ़ाने के लिए किया।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हुड्डा के बयान से जुड़ी एक खबर शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘‘आपने (हुड्डा) जवानों के एक सच्चे जनरल की तरह बात की है। भारत को आप पर गर्व है। हमारी सेना का इस्तेमाल निजी संपत्ति के तौर पर करने में प्रधानमंत्री को कोई शर्म नहीं है।’’

कांग्रेस अध्यक्ष ने आरोप लगाया, ‘‘उन्होंने (मोदी) ने राजनीतिक पूंजी के लिए सर्जिकल स्ट्राइक का इस्तेमाल किया और अनिल अंबानी की पूंजी में 30 हजार करोड़ रुपये में बढ़ोतरी करने के लिए राफेल सौदे का इस्तेमाल किया।’’

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हुड्डा के बयान को लेकर प्रधानमंत्री पर निशाना साधा।

उन्होंने कहा, ‘‘लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त्) हुड्डा आपका धन्यवाद कि आपने प्रधानमंत्री मोदी की ओर से सर्जिकल स्ट्राइक का राजनीतिकरण किए जाने को बेनकाब कर दिया है। कोई भी हमारे बहादुर जवानों के पराक्रम और बलिदान का इस्तेमाल सस्ते तुच्छ राजनीतिक लाभ के लिए नहीं कर सकता।’’

आपको बता दें कि 29 सितम्बर, 2016 को मोदी सरकार के कार्यकाल के दौरान उरी हमले का बदला लेते हुए इंडियन आर्मी ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पार आतंकी ठिकानों में सर्जिकल स्ट्राइक किया गया था, उस समय लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हुड्डा (सेवानिवृत्त) उत्तरी सेना के कमांडर थे।