उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
वित्त मंत्री अरुण जेटली (Finance Minister Arun Jaitley)
वित्त मंत्री अरुण जेटली (Finance Minister Arun Jaitley)|Twitter
देश

सुप्रीम कोर्ट की केंद्र सरकार को फटकार के बाद जेटली बोले- हमने CBI की साख बचाने के लिए लिया था फैसला 

सर्वोच्च न्यायालय ने मंगलवार को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के निदेशक के रूप में आलोक वर्मा को बहाल कर दिया।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट आज CBI निदेशक आलोक वर्मा को बड़ी राहत देते हुए उन्हें निदेशक पद पर बहाल कर दिया। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का केंद्र सरकार ने भी स्वागत किया है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि केंद्र सरकार ने सीबीआई की साख बचाने के लिए सीवीसी की सिफारिश के आधार पर फैसला लिया था। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने सिर्फ सीवीसी की सिफारिशों के आधार पर ही सीबीआई के दोनों शीर्ष अधिकारियों को छुट्टी पर भेजा था।

जेटली ने कहा, “सीबीआई की निष्पक्ष एवं भेदभाव रहित कार्यशैली के व्यापक हित को देखते हुए न्यायालय ने स्पष्ट तौर पर सीबीआई निदेशक को मिली सुरक्षा को मजबूत किया है। साथ ही साथ न्यायालय ने जवाबदेही की व्यवस्था का रास्ता भी निकाला है। न्यायालय के निर्देशों का निश्चित तौर पर अनुपालन होगा।” उन्होंने कहा कि न्यायालय ने एक हफ्ते के भीतर फैसला लेने के लिए मुद्दे को समिति के पास भेज दिया है।

उन्होंने कहा, “सरकार ने यह फैसला सीबीआई की संप्रभुता को बचाए रखने के लिए किया... सरकार ने सीबीआई के दो वरिष्ठ अधिकारियों को छुट्टी पर भेजे जाने की कार्रवाई सीवीसी की अनुशंसा पर की थी।’’

वर्मा के अधिकार वापस ले लेने के केंद्र को फैसले को दरकिनार करते हुए उच्चतम न्यायालय (Supreme court) ने वर्मा की बहाली कर दी लेकिन उनपर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की CVC (सीवीसी) जांच खत्म होने तक उन्हें कोई भी बड़ा नीतिगत फैसला लेने से रोक दिया। शीर्ष अदालत ने कहा कि वर्मा के खिलाफ आगे कोई भी फैसला उच्चाधिकार प्राप्त समिति लेगी जो (CBI Director) सीबीआई निदेशक का चयन एवं नियुक्ति करती है।

आपको बता दें कि CBI निदेशक आलोक वर्मा को केंद्र सरकार के 23 अक्टूबर के फैसले के बाद छुट्टी पर भेज दिया गया था जिसे सुप्रीम कोर्ट ने निरस्त कर दिया है। आलोक वर्मा सीबीआई के निदेशक पद पर बने रहेंगे , लेकिन वह कोई महत्वपूर्ण फैसला नहीं ले सकेंगे। ज्ञात हो की आलोक वर्मा 31 जनवरी को सेवानिवृत्त होने वाले हैं।