उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
चिदंबरम
चिदंबरम|IANS
देश

भाजपा हर चुनाव से पहले उठाती है राम मंदिर मुद्दा : चिदंबरम

भाजपा हर पांच साल बाद चुनाव से पहले राम मंदिर पर विचारों का ध्रुवीकरण करती है।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली | कांग्रेस नेता व पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने सोमवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर आगामी लोकसभा चुनाव से पहले राम मंदिर मुद्दे पर ध्रुवीकरण का आरोप लगाया और कहा कि अयोध्या मुद्दा 'एक जानी-पहचानी कहानी' है। उन्होंने कहा, "भाजपा हर पांच साल बाद चुनाव से पहले राम मंदिर पर विचारों का ध्रुवीकरण करती है। कांग्रेस पार्टी का मत है कि मामला सर्वोच्च न्यायालय में है और सभी को न्यायालय के निर्णय का इंतजार करना चाहिए। मुझे नहीं लगता कि हमें जल्दबाजी करनी चाहिए।"

कांग्रेस नेता पी चितंबरम ने आगे कहा कि पार्टी 2019 के चुनाव की तैयारी में जुटी है , बीजेपी हर चुनाव की तरह राम मंदिर मुद्दे को देश की जनता के समक्ष भुनाने में जुटी है पर आज जनता विकास चाहती है। हमने 2019 के चुनाव के लिए घोषणापत्र लिखने का काम शुरू कर दिया है। राहुल गाँधी के अनुसार हम लोगों को भी घोषणापत्र लिखने के लिए प्रोत्साहित करेंगे जिससे पता चले जनता क्या चाहती है। इसके लिए हमने 22 सदस्यीय समिति का गठन भी किया है।

आपको बता दें, कि पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम घोषणापत्र लेखन समिति के अध्यक्ष है और राजीव गौडा संयोजक। यह समिति देश के हर कोने-कोने में जा कर लोगों से मिलेगी और घोषणापात्र के लिए राय लेगी। मुंबई में ओपन हाउस कंसल्टेशन किया गया है। यह 1 अक्टूबर से शुरू होगा और दिसंबर तक चलेगा। जिसके लिए खाश वेबसाइट बनाइए गई है , जिसमें लोग 16 भाषाओं में अपनी राय दे सकते हैं कि आखिर वे घोषणापत्र में क्या चाहते हैं।

बता दें, कि कांग्रेस नेता व पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने पिछले दिनों कहा था की राहुल गाँधी आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की तरफ से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नहीं होंगे। उन्होंने अपने बयान में कहा की कांग्रेस ने कभी आधिकारिक रूप में नहीं कहा की राहुल गाँधी प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार होगें। कोंग्रस का मकसद बीजेपी की सरकार को गिराना है और वैकल्पिक प्रगतिशील सरकार का निर्माण करना है। चुनाव के बाद विचार किया जाएगा की प्रधानमंत्री कौन होगा।