Uday Bulletin
www.udaybulletin.com
रणदीप सुरजेवाला
रणदीप सुरजेवाला|image source: ians
देश

सेना को राजनीति में घसीट रही है भाजपा : कांग्रेस प्रवक्ता

भाजपा राजनीति के लिए रक्षाबलों का उपयोग कर रही है

Uday Bulletin

Uday Bulletin

नई दिल्ली, 25 सितम्बर | सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर विवादास्पद राफेल सौदा मामले में निशाना साधते हुए कांग्रेस ने मंगलवार को कहा कि भाजपा सेना को राजनीति में घसीट रही है। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यहां मीडिया से कहा, "हम (कांग्रेस) रक्षाबलों के साथ कभी भी किसी विवाद में संलिप्त नहीं होते। रक्षाबल हमारे लिए सर्वोच्च हैं। लेकिन, भाजपा राजनीति के लिए रक्षाबलों का उपयोग कर रही है। पार्टी को उन्हें राजनीति में नहीं घसीटना चाहिए।"

उन्होंने कहा, "रक्षा बलों का कर्तव्य देश की रक्षा करना है। कांग्रेस ने आवश्यकता और वायु सेना द्वारा रखे गए मानदंडों के आधार पर करार (राफेल) किया था।"

सुरजेवाला ने भाजपा को यह भी चुनौती दी कि अगर कांग्रेस का एक भी आरोप गलत है तो वह फाइलों को सार्वजनिक करे।

उन्होंने कहा, "अगर हमारा कोई भी दावा गलत है, तो हम मोदी जी को फाइलों को सार्वजनिक करने की चुनौती देते हैं। मांगों के आधार पर और वायुसेना से स्वीकृति के बाद निविदा को पूरा किया गया था।"

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने कांट्रैक्ट करते वक्त खुद को भाजपा की तरह वायुसेना से ऊपर नहीं रखा।

सुरजेवाला ने कहा, "हम भाजपा को चुनौती देते हैं कि वह हमें बताए कि क्यों 126 जेट विमानों के कांट्रैक्ट को रद्द कर केवल 36 विमानों का कर दिया गया।"

उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस ने 126 जेट विमानों का कांट्रैक्ट वायुसेना द्वारा इतने ही विमानों की मांग के बाद किया था।

उन्होंने प्रधानमंत्री से पूछा कि क्यों 2012 में कांग्रेस द्वारा 526 करोड़ रुपये में विमानों के लिए दिए गए आर्डर को रद्द कर दिया गया और क्यों 126 विमानों के आर्डर को घटाकर 36 कर दिया गया।

सुरजेवाला ने जेट विमान की आपूर्ति तिथि को लेकर सवाल किए और कहा, "विमान आपात खरीद के लिए थे और तब भी इसके लिए आपूर्ति तिथि 2022 तय की गई थी।"

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि क्यों ऑफसेट कांट्रैक्ट को सरकारी कंपनी से छीन कर एक निजी कंपनी को दे दिया गया।

उन्होंने कहा, "कांग्रेस ने आपकी तरह किसी निजी कंपनी को कांट्रैक्ट नहीं दिया था, बल्कि एक सरकारी कंपनी को दिया था।"

(आईएएनएस)