बाबा का ढाबा की नई जगह, कान्ता प्रसाद ने खोला शानदार रेस्टोरेंट

बाबा के ढाबा से मशहूर कांता प्रसाद ने मालवीय नगर में अपना एक शानदार रेस्टोरेंट खोल दिया है और जिसने इन्हें यहाँ तक पहुँचाने में मदद की वह आज कोर्ट कचहरी के चक्कर लगा रहा है।
बाबा का ढाबा की नई जगह, कान्ता प्रसाद ने खोला शानदार रेस्टोरेंट
कान्ता प्रसाद ने खोला शानदार रेस्टोरेंटUday Bulletin

"समय बेहद परिवर्तनशील है, कब किसका भाग्य किस प्रकार से चमक जाए कोई उम्मीद नहीं। ठीक ऐसा ही कुछ दिल्ली के एक रोड साइड झुग्गी ढाबे के संचालक 80 वर्षीय कान्ता प्रसाद के साथ हुआ। एक समय ऐसा था जब बुजुर्ग दंपत्ति दो वक्त की रोटी के लिए मोहताज था और अब समय ने ऐसी करवट ली कि बाबा ने बेहद पाश इलाके मालवीय नगर में रेस्टोरेंट खोला है।

बाबा के ढाबा की बदली जगह:

आपको शायद एक वायरल वीडियो याद होगा, जिसे फ़ूड ब्लागर गौरव वासन ने शूट करके दुनिया को दिखाया। वीडियो का मामला यह था कि सड़क के किनारे 80 साल के बूढ़े कान्ता प्रसाद अपनी बुजुर्ग पत्नी के साथ एक छोटा सा ढाबा चलाते थे लेकिन कोरोना महामारी की वजह से उनके खाने को बिकने की मोहताजी थी। गौरव वासन द्वारा बनाया गया वीडियो किसी जंगल में आग की तरह फैला और ब्लागर की अपील पर देश दुनिया से लोगों ने मदद की। और मदद इस कदर हुई कि अंत मे खुद गौरव को आगे आकर यह कहना पड़ा कि अब मदद करना बंद करिये।

हालांकि अब बाबा के ढाबा चलाने वाले कान्ता प्रसाद का वक्त बदल चुका है। बूढ़े और बुढ़िया अब होटल के काम नही करते ,बल्कि अब बाबा रेस्टोरेंट के मालिक बन चुके है वह भी मालवीय नगर जैसे बेहद पॉश इलाके में, बाबा के ढाबा के मालिक कान्ता प्रसाद ने अपने रेस्टोरेंट के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि " हम बेहद प्रसन्न है, ईश्वर ने हम पर दयादृष्टि की है। हम उन लोगों का धन्यवाद करना चाहते है जिन्होंने हमारी मदद की है। हम लोगों से अपील करते है कि वो हमारे रेस्टोरेंट में जरूर आये हम अपने रेस्टोरेंट में चायनीज और भारतीय व्यंजन परोसेंगे।

बेहद बदल चुके है हालात:

अगर हालातों की बात करे तो बाबा के ढाबा की जगह और खुद बाबा का ढाबा दोनो की स्थितियों में जमीन आसमान का अंतर आ चुका है। एक वक्त था जब बाबा फटेहाल जिंदगी में थे जबकि अब उनके पास रिवोल्वरिंग चेयर है। महंगी जगह पर रेस्टोरेंट, बेहतरीन किचिन, सीसीटीवी, वाईफाई जैसी सुविधा ग्राहकों के लिए उपलब्ध है। बाबा कान्ता प्रसाद अब मैनेजर की कुर्सी पर बैठकर रेस्टोरेंट का काम संभालते है।

पैसों को लेकर हुआ था विवाद:

हालांकि बाबा के हालात तो बदल गए लेकिन गुमनामी से नामदार तक पहुँचने के बीच मे काफी कुछ ऐसा हुआ है जो बेहद उलझाऊ था। दरअसल जब फ़ूड ब्लागर गौरव वासन ने बाबा के लिए अपील की तो गौरव और बाबा के खाते में अनाप-शनाप पैसा आया और यही पैसा बाद में बाबा और गौरव के बीच मे हुई तकरार का कारण बना। हालांकि दोनो पक्ष एक दूसरे के ऊपर आरोप लगाते रहे लेकिन बाद में लोगों की आलोचना बाबा को ही झेलनी पड़ी।

खैर अब वक्त बदल चुका है, बाबा का कलेवर अब फर्श से अर्श पर है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com