किराना दुकान (प्रतीकात्मक चित्र)
किराना दुकान (प्रतीकात्मक चित्र)|Google
देश

किराना दुकानों पर चला सरकारी डंडा, ज्यादा मूल्य वसूलने पर हुई कार्यवाही

आपदा के समय भी कुछ दुकानदार मुनाफाखोरी करने से नहीं चूक रहे।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

समाज मे आज भी कुछ भेड़िए ऐसे बैठे है जिनका मुख्य उद्देश्य पैसे कमाना है, लेकिन जब सरकारी डंडा चलता है तो हेकड़ी निकल जाती है। ऐसा ही कुछ हुआ है बाँदा में कुछ व्यापारियों के साथ। पुलिस और जिला आपूर्ति विभाग की साझा कार्यवाही में दो दुकानों पर कार्यवाही की गई।

भनक लगते ही डीएम ने चलाया डंडा:

दरअसल जिले के तमाम दुकानदारों द्वारा आवश्यक समानों को ऊंचे दाम पर बेचा जा रहा था इसकी भनक जैसे ही बाँदा जिलाधिकारी अमित सिंह बंसल को हुई तो इन दुकानदारों को लपेटे में लेने के लिए आनन-फानन में प्लान बनाया गया और जिला पुलिस तथा जिला आपूर्ति विभाग की संयुक्त कार्यवाही में इस कार्य को अंजाम दिया गया। जिला मुख्यालय में जिन दो दुकानों पर तय रेट से ज्यादा पैसे वसूलने की शिकायतें मिली थी उनपर कार्यवाही के लिए विभाग की टीमों को रवाना किया गया।

ग्राहक बनकर पहुंचे अधिकारी :

दरअसल सबसे पहले अधिकारियों ने आम खरीददार के रूप में दुकानदार से आवश्यक वस्तुएं जैसे आटा, दाल, नमक के बारे में पूँछा जिसपर दुकानदार ने आटा 35 रुपये प्रति किलो का भाव बताया जो कि सरकार द्वारा तय मूल्य से कहीं ज्यादा पाया गया इसी प्रकार दाल, नमक, हैंडवाश इत्यादि के मूल्यों में भारी अंतर देखा गया नतीजन विभाग ने दुकानदारों पर सख्त कार्यवाही की।

दो दुकानदार नापे गए :

इस विभागीय कार्यवाही में जिलाधिकारी के निर्देशन पर पूर्ति निरीक्षक देवेंद्र तोमर द्वारा आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत कार्यवाही हुई जिसमें अतर्रा रोड, अंजली नगर स्थित गुलाब चंद की दुकान और कोतवाली के नजदीक दिनेश कुमार के ऊपर भी यही कार्यवाही हुई।

दोनो पर अधिनियम के तहत मुकदमा कायम कराया जा चुका है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com