उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत
सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत |Google
देश

धर्म के नाम पर सोशल मीडिया में फैलाया जा रहा झूठ शिक्षित युवकों को आतंकवाद की ओर बढ़ा रहा है -सेना प्रमुख

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा आतंकवाद कई सिर वाले एक राक्षस की तरह अपने पैर पसार रहा है।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: विदेश मंत्रायल द्वारा आयोजित रायसीना डायलॉग 2019 (Raisina Dialouge 2019) में सेना प्रमुख बिपिन रावत (Army Chief Bipin Rawat) ने हिस्सा लिया। जहां उन्होंने कट्टरता, आतंकवाद, सोशल मीडिया (Social Media) जैसे मुद्दों पर अपनी राय रखी। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने आतंकवाद को युद्ध का एक नया तरीका बताते हुए बुधवार को कहा कि यह ‘‘कई सिर वाले राक्षस’’ की तरह अपने पैर पसार रहा है और यह ‘‘तब तक मौजूद रहेगा’’, जब तक देश राष्ट्र की नीति के तौर पर इसका इस्तेमाल करना जारी रखेंगे।

‘रायसीना डायलॉग’ (Raisina Dialouge 2019) के दौरान यहां एक पैनल चर्चा में रावत ने कहा कि सोशल मीडिया कट्टरपंथ को फैलाने का जरिया बन रहा है, इसलिए इसे नियंत्रित किए जाने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर समेत भारत में अलग अलग तरह का कट्टरपंथ दिखाई दे रहा है। बहुत सी गलत एवं झूठी जानकारियों (Fake News) के कारण युवाओं के अंदर कट्टरता की भावना आ रही है और धर्म संबंधी कई झूठी बातें उनके मनमस्तिष्क में भरी जा रही हैं। जनरल रावत ने कहा, ‘‘इसलिए आप अधिक से अधिक शिक्षित युवकों को आतंकवाद की ओर बढ़ते देख रहे हैं।’’

उन्होंने पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा कि देश जब तक राष्ट्र की नीति के तौर पर आतंकवाद (Terrorism) को बढ़ावा देते रहेंगे, तब तक यह मौजूद रहेगा।

जनरल रावत (Army Chief Bipin Rawat) ने कहा, ‘‘आतंकवाद (Terrorism) युद्ध का एक नया तरीका बनता जा रहा है। एक कमजोर देश दूसरे देश पर अपनी शर्तें मानने का दबाव बनाने के लिए आतंकवादियों का इस्तेमाल कर रहा है।’ उन्होंने कहा कि आतंकवाद कई सिर वाले एक राक्षस की तरह अपने पैर पसार रहा है।

जनरल रावत ने अफगानिस्तान की शांति प्रक्रिया पर कहा कि तालिबान से बातचीत होनी चाहिए, लेकिन यह बिना किसी शर्त के होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि आतंकवाद (Terrorism) तालिबान का हमेशा छिपकर साथ देता रहा है और उसे इस बारे में चिंता करनी चाहिए।

आपको बता दें कि, ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन की सयुंक्त साझेदारी में विदेश मंत्रालय की ओर से रायसीना डायलॉग (Raisina Dialouge 2019) का आयोजन किया था।