गांजे पर फिर छलका आचार्य प्रमोद का दर्द

आचार्य प्रमोद ने कहा गाँजा पीने के लिए भाजपा ज्वाइन करना जरूरी है।
गांजे पर फिर छलका आचार्य प्रमोद का दर्द
Acharya PramodUday Bulletin

बाबाजी मुंबई के ड्रग केस मामले में कोई ऐसी पूंछताछ नहीं छोड़ना चाहते जिसमे वह अपनी टांग न अड़ाए दरअसल मामला नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो से जुड़ा हुआ है। ब्यूरो इस मामले पर लगातार काम कर रही है लेकिन कांग्रेसी नेता आचार्य प्रमोद को लगता है कि ये सब काम भाजपा करा रही है।

बाबा ने कहा कलाकारों को भाजपा की शरण मे जाना चाहिए:

आचार्य प्रमोद वक़्त-बेवक्त बयान देने के लिए जाने जाते है। ताजा बयान सिनेमा जगत में नशे के सेवन से जुड़ा हुआ है, जिसमे कांग्रेसी नेता और आध्यात्मिक गुरु आचार्य प्रमोद ने भाजपा पर हमला बोला है। आचार्य प्रमोद ने बॉलीवुड को सलाह दी है कि कलाकार यह समझ ले कि अगर उन्हें गांजा पीना है तो उन्हें भाजपा ज्वाइन करना अनिवार्य है।

बाबा ने बाकायदा नसीहत देते हुए कहा कि फ़िल्मी कलाकारों को ये बात अच्छी तरह “समझ”लेनी चाहिये कि गाँजा पीने के लिये भाजपा ज्वाइन करना ज़रूरी है।

आचार्य प्रमोद

आचार्य प्रमोद पक्के वाले राजनीतिज्ञ बन चुके है:

दरअसल यह पहला मामला नहीं है जब आचार्य प्रमोद सिनेमा जगत में नशे खोरी के मामले पर भाजपा पर बरसते हुए नजर आए है। इससे पहले भी जब एनसीबी ने सिनेमा जगत की दिग्गज महिला कलाकर दीपिका पादुकोण के घर छापा मारने पहुंची थी और थोड़ा बहुत गांजा बरामद किया था। इसपर आचार्य प्रमोद ने चुटकी लेते हुए कहा था कि जितना गांजा एक्ट्रेस के घर से बरामद हुआ है उतना तो हमारे साधु संतों की चिलम में आ जाता है।

लोगों ने आचार्य प्रमोद को लिया आड़े हाँथ:

हालांकि ट्विटर पर कॉमेडियन भारती के हुए विवाद के बाद लोगों ने आचार्य प्रमोद को खुद काफी ज्यादा ज्ञान दे दिया। लोगों ने आचार्य प्रमोद की पुरानी तश्वीरों को डालकर बाबाजी की लत और नियत पर सवाल खड़े किए। लोगों ने कहा कि बाबा जी आप खुद नशे का सेवन करते है और दूसरों को भी नशे के लिए प्रेरित कर रहे है। आपको शर्म आनी चाहिए।

Acharya Pramod
कॉमेडियन भारती सिंह के साथ हुआ मजाक, एनसीबी ने मारी रेड
Acharya Pramod
दीपिका पादुकोण, सारा अली खान, श्रद्धा कपूर एनसीबी की रडार पर कभी भी हो सकती हैं पूछताछ।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com