उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
चित्र - मृतक के दोनों बेटे, और गांव के व्यक्ति  
चित्र - मृतक के दोनों बेटे, और गांव के व्यक्ति  |Uday Bulletin
देश

प्रेम प्रसंग की वजह से अधेड़ की गई जान, पत्नी और प्रेमी फरार

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

Summary

“इश्क और मोहब्बत अंधी होती ही है, इसका ताजा नमूना बाँदा जिले में नजर आया , जहां लगभग ग्यारह वर्षीय बेटे की माँ पड़ोसी के इश्क में चूर होकर अपने पति की  जिंदगी का काल बन गयी”

मामला बाँदा जिले के पैलानी थाना क्षेत्र अंतर्गत दादा मऊ गांव की है , जहां का मानसिंह उम्र 45 वर्ष सूरत (गुजरात) मे रहकर कमाई करता था और समय-समय पर अपनी पत्नी सुनीता सिंह और बच्चों के लिए पैसा उपलब्ध कराता था, लेकिन पति की गैरमौजूदगी में पत्नी की आंखे पड़ोसी रामकरन सिंह उर्फ फल्लू सिंह से चार हो गयी, बीते पखवारे में पति सूरत से लौट कर अपने गांव आया था , और जब पति ने गांव मुहल्ले के लोगों से पत्नी की इस हरकत के बारे में सुना तो उसके कान खड़े होने शुरू हुए , सबसे पहले मानसिंह ने निजी स्तर पर अपनी पत्नी को समझाने की कोशिश की ,लेकिन मामले को सम्हलते न देख मानसिंह ने स्थानीय पुलिस की मदद ली,

मानसिंह ने पुलिस को प्रार्थनापत्र देकर यह बताया कि उसकी पत्नी के पडौसी के साथ अवैध संबंध है, अतः या तो पत्नी और प्रेमी को अलग कर दिया जाए , अन्यथा वह अपनी पत्नी से अलग होना चाहता है,  इस शिकायती पत्र पर पुलिस ने तीनों पक्षो को एक साथ बैठाकर सुलह कराने का प्रयास किया , इस पर पत्नी अपने प्रेमी के साथ तो रहना चाहती थी, लेकिन पति की जमीन जायदाद को किसी भी स्थिति में नही छोड़ना चाहती थी ,

और इसी मामले में एक दिन सूना मौका पाकर पत्नी ने प्रेमी की मदद से पति को मारकर फांसी के फंदे पर टांग दिया ताकि यह हत्या आत्महत्या जैसी लगे,

मृतक के 11 वर्षीय पुत्र रोहित ने बताया कि आरोपी व्यक्ति अधिकतर रात को 10 बजे आता था और चार बजे निकल जाता था, इस मामले पर जब भी रोहित द्वारा अपनी माँ से पूंछा जाता तो हर बार किसी आवश्यक काम होने की बात को कहकर बात को टाल दिया जाता ,

रोहित ने बताया कि वह खेलने के लिए बाहर गया हुआ था दिन के 11 बजे जब वह खेलकर घर लौटा और अपने पिता को फंदे ओर लटकता पाया, और देखा कि उसकी माँ और प्रेमी फल्लू सिंह और दो अन्य लोग घर से निकल कर भाग रहे थे,

वर्तमान समय तक आरोपी महिला और प्रेमी दोनो फरार है,  पुलिस अपनी किरकिरी

पुलिस अपनी किरकिरी बचाने के लिए इस घटना को किसी भी तरह से आत्महत्या करार देने और तुली है, जबकि मृतक का बेटा इस मामले का चश्मदीद गवाह है,पूरे गांव और क्षेत्र में इस मामले को लेकर बाते हो रही है।