उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Apache Helicopter
Apache Helicopter|Google
देश

Apache के नाम से आखिर क्यों छूट रहे हैं पाक के पसीने ?

भारतीय वायुसेना की ताकत तो पहले भी कुछ कम नहीं थी लेकिन अब इस आधुनिक हेलीकॉप्टर Apache के इसमें शामिल होने से इसकी ताकत और भी ज्यादा बढ़ गई है। अब कोई भी दुश्मन नहीं बच पाएगा।

Puja Kumari

Puja Kumari

अगर आप भी भारत देश के नागरिक हैं तो आपको ये तो महसूस होता ही होगा कि आप न्यू इंडिया में रह रहे हैं। न्यू इंडिया जो कि किसी भी दुश्मन को मुंहतोड़ जवाब देने की क्षमता रखता है, घर में घुसकर वार करने की क्षमता रखता है। आज के डेट में इस न्यू इंडिया में एक ऐसी शक्ति जुड़ गई है जिसके बारे में सुनकर आपको और भी ज्यादा गर्व होगा।

दरअसल हम बात कर रहे हैं Apache हेलीकॉप्टर की, जिसकी चर्चा देशभर में हो रही है। भारतीय वायुसेना में अपाचे के शामिल होने से अब वो और भी ज्यादा ताकतवर बन गया है। हालांकि अपाचे के शामिल होने से पहले भी भारत का स्थान सैन्य सुरक्षा में चौथे नम्बर पर था और अब इसके आ जाने से ये और भी ऊपर हो जाएगा।

बताते चलें कि भारत ने अमेरिका से कुल 22 Apache हेलीकॉप्टर की डील तय की है जिसमें से 8 भारतीय वायुसेना को सौंप दिए गए हैं। खास बात तो यह है कि भारतीय वायुसेना ने अपाचे की पूर्ण विधिवत पूजा और 'वाटर कैनन सैल्यूट' के साथ उसका स्वागत किया।

Apache Helicopter
Apache Helicopter
google

क्यों इतना खास है अपाचे

अपाचे में दुश्मनों को धूल चटाने के लिए इतनी सारी खूबियां मौजूद है कि जिसे जानकर ही दुश्मन थर थर कापेंगे।

खास बात तो यह है कि Apache गोलियों की बौछार के साथ-साथ मिसाइलों से भी वार एक साथ ही कर सकता है।

तकनीक के दृष्टि से भी देखें तो यह सबसे उन्नत लड़ाकू हेलीकॉप्टर में से एक है।

एक साथ कुल 14 मिसाइलें दागने की क्षमता रखता है हेलीकॉप्टर अपाचे।

इसमें ऐसी तकनीक है जिससे ये घने जंगलों में रात के अंधेरे को चीरते हुए भी दुश्मनों को देख सकता है।

Apache Helicopter
Apache Helicopter
Google

पठानकोट में ही क्यों किया गया तैनात

कई लोगों के मन में ये सवाल आ रहा है कि आखिर Apache को पठानकोट में ही क्यों तैनात किया गया इसके पीछे का मकसद क्या है?

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि पाकिस्तान की गीदड़ धमकियां आजकल ज्यादा ही बढ़ गई हैं जिसकी वजह से पाकिस्तान और भारत के बीच तनाव की स्थिति भी बढ़ती जा रही है। यही वजह है कि सबसे पहले अपाचे को पठानकोट में ही तैनात किया गया है।

दरअसल पंजाब के पास पठानकोट ऐसी जगह है जो पाकिस्तान की सीमा से नजदीक है, यही कारण है कि पठानकोट को भारत पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा में से सबसे महत्वपूर्ण माना गया है।

दूसरी वजह ये भी है कि पठानकोट में ही नेशनल हाईवे 1 (A) मौजूद है जो कि पठानकोट से होकर गुजरता है और कश्मीर की घाटी के रास्ते को भी जोड़ता है।

इसके अलावा पठानकोट ऐसी सीमा है जहाँ से बैठकर पाकिस्तान के अंदर तक वार किया जा सकता है। आपको याद होगा कि साल 2016 में पाकिस्तान से आये आतंकवादियों ने भी यही पर हमला कर घुसपैठ करने की कोशिश की थी लेकिन वो नाकाम हो गए थे।

पठानकोट की सीमा से युद्ध के दौरान हथियार ले जाते हेलीकॉप्टर को रोक जा सकता है यही वजह है कि पाकिस्तान बार बार इसी सीमा पर हमला करता है। इन्ही वजहों के कारण कई शानदार तकनीक और खतरनाक हथियारों से लैस अपाचे हेलीकॉप्टर को सबसे पहले यहीं पर तैनात किया गया है।