उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Deoria Bus Stand
Deoria Bus Stand|Uday Bulletin
देश

देवरिया का बस अड्डा बहाता अपनी बदहाली पर आंसू,बड़े नेताओ का है संसदीय क्षेत्र  

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

नेता गण जनता की  सुविधाओं से ज्यादा अपनी सुविधा दुरुस्त करने में मगशूल रहते है, यह सिर्फ कहावत ही नही बल्कि इसका जीता जागता उदाहरण उत्तर प्रदेश सड़क परिवहन निगम का रोडवेज बस स्टैंड है, जिसकी खस्ता हालात देखकर किसी को भी पसीना आ जाये

Deoria Bus Stand
Deoria Bus Stand
Google

वैसे तो यूपी रोडवेज अपनी अदभुत कार्यप्रणाली के जानी ही जाती है, अगर आप इसकी बसों में यात्रा कर रहे है तो आपका गंतव्य तक पहुचना बेहद संदिग्ध है, क्या पता कब कहाँ और कैसे आपकी बस चलने से मना करदे, हालांकि किराये में कोई नरमी और कोताही नही बरती जाएगी,

मामला उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले का है जहां मुख्य रोडवेज बस अड्डे की हालत बेहद दयनीय है, यह दीवारे अपना वजूद जाने कब का खो चुकी है और इस इंतज़ार में है कि कब कोई यात्री हमारे नीचे आये और उनकी मौत का कारण बने,

Deoria Bus Stand
Deoria Bus Stand
Uday Bulletin

छतों से टपकता पानी यात्रियों को  झरने का एहसास कराने से नही चूकता , ज्यादा बारिस होने पर यह टपकन मोटी धारा की गंगोत्री में बदल जाती है,

पेयजल की व्यवस्था के नाम पर निगम यात्रियों से मजाक के मूड में दिखाई देता है, साफ सफाई और अन्य चीजें बिल्कुल नदारद सी नजर आती है

पेयलज के स्थान पर गंदगी का बड़ा अम्बार सा नजर आता है

शाम ढलते ही इस स्थान पर मधुशाला प्रेमियों का जमावड़ा शुरू होता है , जो देर शाम यात्रियों के साथ हुए झगड़े के साथ समाप्त होता है,यात्रियों की सुरक्षा के नाम पर एक होमगार्ड भी उपलब्ध नही है, बस स्टैंड में सैकड़ो बार चोर उचक्कों की कारिस्तानी सांमने आ चुकी है, लेकिन विभाग और जिम्मेदार लोग अभी तक मौन साधना की स्थिति में बैठे है

देवरिया का बस अड्डा बहाता अपनी बदहाली पर आंसू,बड़े नेताओ का है संसदीय क्षेत्र  

गौर करने वाली बात यह है कि देवरिया वर्तमान समय मे भाजपा विधायक जनमेजय सिंह का क्षेत्र है और यहां से रमापति राम त्रिपाठी जी वर्तमान सांसद है, साथ ही यह क्षेत्र पूर्व में कलराज मिश्र जी  संसदीय क्षेत्र रहा है

सरकारे आमजन पर कर, और दंड लादने में मगशूल है लेकिन जो जिम्मेदारी सरकार की है उस से लगातार मुँह मोड़ा जा रहा है, देखना यह हॉगा कि सरकारी उपेक्षा का शिकार यह स्थान जिम्मेदारो की नजर खींचने में कब कामयाब होगा