उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Priyanka Gandhi Vadra with Brother Rahul Gandhi
Priyanka Gandhi Vadra with Brother Rahul Gandhi|Social Media
देश

भाई की गिरफ़्तारी पर छलका बहन प्रियंका वाड्रा का दर्द कहा नहीं सहन होगा अपमान 

दिल्ली में ढहा एक और मंदिर !

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

देश की राजधानी दिल्ली में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिल्ली विकास प्राधिकरण (Delhi Development Authority) को दिए आदेश के बाद DDA ने तुगलकाबाद रोड स्थित संत रविदास मंदिर को ढहा दिया। इस मंदिर को ढहाने का आदेश देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह मंदिर सरकारी जमीन पर बना है, इसलिए इसे ढहा दिया जाए।

लेकिन अब मंदिर ढहने के बाद इस मामले पर बवाल शुरू हो गया है। कांग्रेस पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने इस मामले में बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि 'इस तरह मंदिर का तोड़ा जाना दलित भाइयों की भावनाओं के खिलाफ है, हम यह अपमान नहीं कर सकते।'

दरअसल इस मंदिर के ढहने के बाद भीम आर्मी मंदिर के पुनःनिर्माण की मांग कर रहा था, और इसी मांग को लेकर दिल्ली के रामलीला मैदान में भीम आर्मी के कार्यकर्ता एक जुट हुए थे, लेकिन वहां शांति पूर्ण प्रदर्शन करने के बजाए कार्यकर्ता उग्र होकर आगजनी और पत्थरबाजी करने लगे। जिसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और भीम आर्मी के प्रमुख चंद्र शेखर रावण सहित अन्य 96 कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर जेल ले गई। इन्हीं कार्यकर्ताओं की गिरफ़्तारी के बाद प्रियंका 'भीम आर्मी' के बचाव में उतर आई और कहा कि -

भारतीय जनता पार्टी पहले तो हमारे दलित भाइयों की भावनाओं का खिलवाड़ करती है, उनके पूजा घर तोड़े जाते है, और जब वो लोग आवाज उठाते हैं तो उन्हें पीटा जाता है, धमकाया जाता है, लाठियां बरसाई जाती है, आंसू गैस के गोले छोड़े जाते हैं।

15 पुलिस कर्मी घायल

दलित समुदाय का कहना है कि ‘यह मंदिर चार सौ साल पुराना है। इस तरह मंदिर का तोड़ा जाना हमारी भावनाओं को आहत करने वाला है।’

मंदिर ढहने के बाद मध्य प्रदेश, माहाराष्ट्र, हरियाणा, पंजाब और दिल्ली के दलित समुदायों का जत्था राम लीला मैदान में पहुंच कर विरोध करने लगा। देखते ही देखते रामलीला मैदान छावनी में दब्दील हो गया। ज्यादा से ज्यादा संख्या में सुरक्षा बालों को तैनात किया गया। गिरफ़्तारी की जाने लगी।

शुरुआत में पुलिस भीड़ को हटाने का प्रयास कर रही थी लेकिन भीड़ हिंसक होती गई। अंत में पुलिस को बल का प्रयोग करना पड़ा, हवाई फायरिंग की गई, आंसू गैस के गोले छोड़े गए, और भीड़ को खदेड़ कर भगाया गया। इस दौरान हुई हिंसा में 15 पुलिसकर्मी भी घायल हो गए।

दोबारा मंदिर बनाने का फैसला

रामलीला मैदान में हुई बैठक के दौरान भीम आर्मी के लोगों ने तय किया कि इस मंदिर का दोबारा निर्माण किया जायेगा। बैठक में तय हुआ कि 5 सितम्बर से मंदिर का पुनःनिर्माण शुरू होगा और इसके लिए दलित समुदाय देश भर के रविदास अनुयायियों का आह्रवान कर रहा है।

आपको बता दें कि इससे पहले भी दिल्ली के चावड़ी बाजार इलाके में मंदिर तोड़ने की घटना सामने आई थी। जहां मुस्लिम समुदाय ने आक्रोशित होकर दुर्गा मंदिर पर धावा बोल दिया था। बाद में इस मंदिर का पुनःनिर्माण कराया गया।