उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
mission mars
mission mars|Google
देश

देश की पहली स्पेस फिल्म है Mission Mangal, महिला वैज्ञानिकों का दिखेगा गजब का जज्बा 

फिल्म Mission Mangal के आने से लोग उन महिला वैज्ञानिकों के बारे में जानने के लिए जागरूक हो रहे हैं जिन्होने असली में ये महत्वपूर्ण जिम्मेदारी निभाई थी। 

Puja Kumari

Puja Kumari

फिल्म इंडस्ट्री में आए दिन कई सारी फिल्में आती हैं, जिनमें से कुछ हिट करती है तो कुछ फ्लॉप। लेकिन कुछ फिल्में ऐसी भी होती हैं जो किसी के जीवन पर आधारित होती हैं या तो किसी सच्ची घटना पर आधारित होती है, हालांकि सच को पर्दे पर कलात्मक तरीके से दिखाना इतना आसान भी नहीं होता है पर बॉलीवुड में ऐसे कई प्रोड्युसर व डायरेक्टर हैं जो इसे बेहतरीन तरीके से दिखाने में माहिर हैं। दरअसल आज हम एक ऐसी ही फिल्म के बारे में बात करने जा रहे हैं जो अभी तक बॉक्स ऑफिस रिलीज नहीं हुई है लेकिन इसके बारे में हर कोई चर्चा कर रहा है। हम बात कर रहे हैं फिल्म Mission Mangal की, जो कि 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर रिलीज होगी। जैसा कि इस फिल्म के नाम से ही समझ आ गया होगा कि यह 'मिशन मंलग' पर आधारित है।

क्या है 'मिशन मंगल '

mission mars
mission mars
google

आपको याद होगा तो हाल ही में भारत ने मिशन चंद्रयान-2 की ओर कदम बढ़ाया है जिसमें सफलता जारी है। इससे पहले इसरो Indian Space Research Organization (ISRO) ने ‘मंगलयान’ को 5 नवंबर 2013 के दिन लॉन्च किया था। इसके बारे में कहा जाता है कि यह ग्रहों के बीच पहुंचने वाला भारत का पहला मिशन था। मंगलयान के लॉन्च होने के साथ ही ISRO को मार्स पर पहुंचने वाली स्पेस एजेंसी के रूप में चौथा स्थान भी प्राप्त हो गया था।

मिशन मंगल’ को मार्स ऑर्बिटर मिशन (Mars Orbiter Mission) यानी MOM भी कहा जाता है। इस मिशन में बाकी के स्पेसक्राफ्ट से बेहद ही कम खर्च आया था, सिर्फ 450 करोड़ रूपए में ये प्रोजेक्ट पूरा हुआ था। इस मिशन की एक खासियत यह भी थी कि इसमें पहली बार इतनी संख्या में महिला वैज्ञानिकों ने काम किया था, इस मिशन में कुल 27 प्रतिशत महिला वैज्ञानिकों ने कार्यभार संभाला था।

क्या है इस फिल्म की खासियत

film mission mangal
film mission mangal
google

सबसे पहले तो ये बता दें कि फिल्म Mission Mangal देश की पहली ‘स्पेस फिल्म’ है वो भी महिला केंद्रित। यही वजह है कि लोग इस फिल्म के बारे में बात कर रहे हैं और देखने के लिए भी काफी उत्साहित है। फिल्म (Mission Mangal) का पोस्टर व टीजर रिलीज हो चुका है जिसे देखकर यह तो साफ समझ आ रहा है कि इसमें अक्षय कुमार की मुख्य भुमिका है लेकिन अक्षय से हटकर अगर आप एक नजर बाकी के सितारों पर डालेंगे तो ये 5 एक्ट्रेस आपका ध्यान खीचेंगी।

ये हैं 'मिशन मंगल' की रियल लाइफ हिरोईने

Female ISRO Scientists of ‘Mission Mangal’ 
Female ISRO Scientists of ‘Mission Mangal’ 
google

अक्षय के बाद इस फिल्म में अगर कोई जान डाल रहा है तो वो हैं ये 5 अभिनेत्रियां। दरअसल ये पांचों अभिनेत्री इस फिल्म में उन महिलाओं का किरदार निभा रही हैं जिन्होने इस मिशन में महत्वपूर्ण योगदान दिए थे। अब इतनी तारिफ सुनकर आपका भी मन जरूर हो रहा होगा उन असली हिरोईनों से मिलने के लिए जिन्होने इस मिशन में अपना पूरा दमखम लगा दिया था।

1. मीनल संपत

मिशन मंगल की कामयाबी में इनका बड़ा योगदान रहा, मीनल वैज्ञानिक के साथ सिस्टम इंजीनियर भी हैं। इन्होने इस मिशन के लिए लगभग 2 साल लगातार 18-18 घंटे तक काम किया था और करीब 500 वैज्ञानिकों की टीम को सिस्टम इंजीनियर के रूप में लीड भी किया था।

2. अनुराधा टीके

दूसरी वैज्ञानिक हैं अनुराधा टीके, जो कि आंध्रप्रदेश की रहने वाली है और ये इस मिशन में डायरेक्टर की जिम्मेदारी निभा रही थी। अनुराधा को बालपन से ही ‘स्पेस साइंटिस्ट’ बनने में रूचि थी और इन्होने साल 1982 में इसरो ज्वाइन करने के साथ ही अपनी लगन व मेहनत से वो कर दिखाया जिसकी लोग सिर्फ कल्पना करते हैं।

3. रितु करिधल

रितु का नाम भी इन 5 महिलाओं में आता है, यह लखनऊ की निवासी हैं। शुरूआत से ही रितु अंतरिक्ष विज्ञान में दिलचस्पी रखा करती थी उनका सपना था कि वो बड़े होकर एक दिन वैज्ञानिक बनेंगी। वैज्ञानिक बनने के साथ ही रितु ने मिशन मंगल को भी सफल बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। अपने परिवार को भूलकर दिन रात एक कर इन्होने इस मिशन को मुकाम तक पहुंचाने में अपनी जिम्मेदारी निभाई।

4. नंदिनी हरिनाथ

नंदिनी का नाम भी इस लिस्ट में शामिल है, बता दें कि नंदिनी इसरो में रॉकेट साइंटिस्ट हैं, नंदिनी करीब 20 वर्षों से इसरो में है। बचपन से ही वैज्ञानिक बनने का सपना देखने वाली नंदिनी ने अपने सपनों को पूरा करने के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी।

5. मौमिता दत्ता

मौमिता इस मिशन में प्रोजेक्ट मैनेजर के रूप में कार्यरत थीं, कोलकाता में फीजिक्स से पढ़ाई करने वाली मौमिता को भी बचपन से ही स्पेस विषयों में रुचि थी पर उन्होने कभी सोचा नहीं था कि उनको ऐसा मौका भी मिलेगा।