उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
मजदूरों को नहीं मिली मजदूरी
मजदूरों को नहीं मिली मजदूरी|Uday Bulletin
देश

बाँदा: पंचायत में की मजदूरी, पैसे की जगह मिला ठेंगा। 

बीडीओ से की शिकायत

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

Summary

कहते है मजदूर की मजदूरी, मजदूर का पसीना सूखने से पहले मिल जानी चाहिए अगर उसकी मजदूरी में देरी हुई तो इसे एक अन्याय की तरह देखा जाना चाहिए

लेकिन बाँदा जिले के बिसंडा ब्लाक अंतर्गत ग्राम घूरी में ये बातें सिर्फ हवा-हवाई हैं यहाँ ग्राम प्रधान और सचिव ने मिलकर गरीब मजदूरों के साथ ऐसा खेल खेला है कि मजदूर घनचक्कर बने घूम रहे हैं, कभी सचिव प्रधान की जिम्मेदारी कहकर टरका देता है तो प्रधान विभागीय खामियां बता कर लंबे समय से मजदूरों की मजदूरी पर सांप की तरह कुंडली मार कर बैठा हुआ है।

मामला बाँदा जिले के ग्राम घूरी का है जिसमे मजदूरी द्वारा ग्राम पंचायत के अंतर्गत आने वाले निर्माण कार्य जैसे शौचालय निर्माण, नाली खड़ंजा निर्माण, कुओं की सफाई, इत्यादि में मजदूरों से मजदूरी करा के उन्हें सरकारी नियमों का हवाला देकर मूर्ख बनाया जा रहा है।

अधिकारियों से बात करने पर पता चला कि बताये गए कार्यो का पैसा काफी पहले ही विभाग से निर्गत किया जा चुका है पर मनमानी के चक्कर मे प्रधान और सचिव पता नही किस प्रकार की खिचड़ी पका रहे हैं।

ग्रामीणों ने इस बाबत ब्लाक में जाकर विकास खंड अधिकारी से शिकायत की है, गौर करने वाली बात यह है कि शिकायत भी उसी आला अधिकारी से की गई है जो प्रधान और सचिव से सीधे संबंधित होता है, देखना यह होगा कि इस मामले में कैसे कदम उठाए जाते हैं ।

मजदूरों ने की शिकायत 
मजदूरों ने की शिकायत 
UDAY BULLETIN 

शिकायत में मजदूरों ने प्रधान और सचिव द्बारा शौचालयो के निर्माण में धांधली की बात भी उठायी है, अगर यह मामला सही साबित होता है तो दूर से ही सही लेकिन इस कालिख के छींटे विकाश खंड अधिकारी साहब के ऊपर भी आएंगे।

उदय बुलेटिन इस मामले पर नजर बनाये हुए है।