उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Social Media
Social Media|बुंदेलखंड सड़क हादसा
देश

रफ्तार और ओवरलोड बना लोगों की जान का दुश्मन, हादसा देखकर रूह कांप जाएगी

ट्रकों की तेज रफ़्तार से भगवान बचाए

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

बुंदेलखंड में रफ्तार और ओवरलोड का अपना ही टशन है। जो कसर थी तो नए नवेले हाइवेज ने पूरी कर दी, यहाँ लोग लूना को भी फरारी से दौड़ाने का माद्दा रखते है। और साइकिल पर भी एक टन माल को ले जाने की कोशिश में जुटे रहते हैं।

14 जुलाई को हमीरपुर जिले के ग्राम इंगोहटा के नजदीक दो ट्रकों की जोरदार टक्कर हुई, एक ट्रक जो शायद आलू जैसी कोई सब्जी लाद कर जा रहा था,रफ्तार की असीमितता होने के कारण या तो सामने वाले बड़े वाहन को नहीं देख पाया या फिर सामने वाले ने अपनी रफ्तार को नहीं संभाला।

Social Media
Social Media
बुंदेलखंड सड़क हादसा

मंजर आपके सामने है, पचासों क्विंटल का वजन ड्राइवर के सर पर रखा हुआ है और लोगों से मदद की गुहार लगा रहा है। खलासी की कोई जानकारी उपलब्ध नहीं हो पाई।

जानकारी करने पर पता चला कि यह 3118 LPT ट्रक कानपुर निवासी उमा देवी के नाम से रजिस्टर्ड है तथा सब्जियों की ढुलाई में प्रयोग होता है। जो इंगोहटा चौराहे के नजदीक दुर्घटनाग्रस्त हो गया, ग्रामीणों ने तापस सहयोग से ड्राइवर को घायल अवस्था में निकाल कर अस्पताल पहुंचाया , जहां उसकी हालत अभी भी चिंताजनक बनी हुई है।

सरकार भले ही यातायात सुरक्षा ने ढोल पीटे लेकिन तेज रफ्तार और ओवरलोड ट्रकों को आखिर सड़क पर चलने की अनुमति देता कौन है? यक्ष प्रश्न अभी भी जिंदा है।