उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
लालू की जमानत 
लालू की जमानत |google
देश

चारा घोटाले मामले में लालू को मिली जमानत से भाजपा को हो सकता है लाभ !

लालू यादव को जमानत मिलने के कारण एक बार फिर से बिहार की राजनीति में लोगों की दिलचस्पी बढ़ने लगी है, वहीं कहा तो ये भी जा रहा है कि इसके पीछे भी कोई बड़ा मकसद है। 

Puja Kumari

Puja Kumari

बिहार की राजनीति की बात हो और इसमें लालू यादव (Lalu Prasad Yadav) का नाम न आये ऐसा भला हो सकता है क्या। आरजेडी अध्यक्ष (RJD Chief) होने के साथ ही लालू यादव की पहचान एक ऐसे नेता के रूप में हो चुकी है कि बिहार का नाम आते ही लोग मजाकिया अंदाज में कहने लगते हैं कि लालू यादव के गढ़ से हो। भले ही आज लालू यादव किसी मंत्री पद पर नहीं है लेकिन उनका स्टारडम जरा भी कम नही हुआ है। अब भई लालू यादव का नाम हो तो चारा घोटाला खुद ही दिमाग में आ जाता है। वैसे फिलहाल तो लालू इसी आरोप में जेल में सजा काट रहे हैं।

अब आप सोच रहे होंगे कि अचानक से हम लालू यादव की बात क्यों करने लगे? क्या उन्होंने फिर से कुछ कांड किया है? तो बता दें कि ऐसा कुछ नहीं है बल्कि इनकी चर्चा करने के पीछे वजह ये है कि उन्हें ‘चारा घोटाले’ (fodder scam) के एक मामले में जमानत मिल गई है। हालांकि अभी अन्य कई मामले हैं जिनमें अभी भी वो दोषी हैं। लेकिन काफी समय बाद जमानत मिलने के कारण लोगों के मन में ये सवाल आने लगा है कि लालू कब बाहर आएंगे। वैसे बता दें लालू के बाहर आने में अभी वक्त है लेकिन उनके समर्थकों कीआशाएं एक बार फिर से जाग गई है।

लालू की जमानत 
लालू की जमानत 
google

क्या है चारा घोटाला

इन सभी बातों से पहले बात करते हैं ‘चारा घोटाले’ (fodder scam) की जिसका लालू यादव के साथ बेहद ही गहरा नाता है। संक्षिप्त रूप में समझे तो साल 1995 में बिहार में विधानसभा चुनाव हुआ था उस दौरान लालू के नेतृत्व में जनता दल ने जीत हासिल की। जिसके बाद चाइबासा खजाना मामले में अधिकारियों ने पशुपालन विभाग पर छापा मारा, इस दौरान वहां की सभी फाइलें जलाई जा रही थीं तभी से ये मामला गरमा गया।

दरअसल चारा घोटाले (fodder scam) में फर्जी कंपनियों के नाम पर जानवरों का चारा व दवा के नाम पर पैसे की हेराफेरी की गई थी। इस हेराफेरी में कई पदों पर लालू के ही लोग मौजूद थें जिसकी वजह से ये हेरफेर आसानी से किया जा रहा था। ‘चारा घोटाला’ ही एक ऐसा मामला था जिसने लालू यादव के राजनीतिक करियर को बहुत बड़ा झटका दिया, इस मामले में लालू के साथ कुल 16 आरोपियों को सजा हुई।

लालू की जमानत 
लालू की जमानत 
google

लालू की जमानत के पीछे छिपी है ये बड़ी वजह

लालू यादव (Lalu Prasad Yadav) आरजेडी के मुख्य स्तंभ थे, हर कोई इनकी जय जयकार करता था पर इस मामले में दोषी करार होने के बाद वो जेल में चले गए। इधर आरजेडी पार्टी का बेड़ा डमाडोल होने लगा क्योंकि आए दिन इनके दोनों बेटों में विवाद खड़े होने लगे। मां राबड़ी देवी काफी प्रयासों के बावजूद इनके झगड़ों को सुलझाने में असफल रही ऐसे में पार्टी को फिर से लालू की आवश्यकता महसूस होने लगी।

वैसे फिलहाल लालू को जमानत मिलने के कारण राजनीतिक गलियारे में तमाम बातें हो रही है, कई विशेषज्ञों का कहना है कि लोकसभा चुनाव के बाद लालू को जमानत मिलने से नीतीश थोड़े शांत रहेंगे। इतना ही नहीं कहा तो ये भी जा रहा है कि भाजपा भी यही चाहती है कि लालू को जमानत मिल जाए क्योंकि उन्हे लगता है कि पता नहीं फिर कब अचानक से सुशासन बाबू (नीतीश कुमार) का दिमाग घूम जाए और एक बार फिर वो पलटी मार जाएं। वैसे ये कहना गलत नहीं होगा कि भाजपा भी शायद यही चाहती है कि नीतीश कुमार को लालू का डर बना रहे ताकि वो अपने दायरे में रहे।