उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
शिमला में सड़क दुर्घटना
शिमला में सड़क दुर्घटना |Social Media
देश

शिमला स्कूल बस हादसे में हुई 3 लोगों की मौत, स्थानीय लोगों ने सरकार पर लगाया लापरवाही का आरोप

शिमला स्कूल बस हादसे के बाद घटना स्थल पर पहुंचे विधायक को स्थानीय लोगों के गुस्से का शिकार होना पड़ा 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में सोमवार को सरकार संचालित एक बस लुढ़ककर खाई में गिर गई जिससे उसमें सवार एक निजी स्कूल के दो छात्रों और बस के चालक नरेश की मौत हो गई और पांच अन्य लोग घायल हो गए। पुलिस ने यह जानकारी दी। घायलों को यहां स्थित इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।

कॉन्वेंट ऑफ जीसस एंड मेरी चेल्सिया के छात्र हिमाचल सड़क परिवहन निगम (एचआरटीसी) की बस में यात्रा कर रहे थे। यह दुर्घटना लोअर खलिनी में हुई।

कैसे हुई बस दुर्धटना

मौके पर मौजूद प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार यह बस हादसा काफी डरावना था। जाँच के दौरान उन्होंने पुलिस को बताया कि "बस पहले तो ठीक से जा रही थी लेकिन मुख्य मार्ग की सड़क संकरी होने और लोहे के बैरियर न होने के कारण यह दुर्घटना हुई”। बस ड्राइव बस को बैलेंस नहीं कर सका। और बस खाई में गिर गई। इस दौरान सभी बच्चे शोर मचा रहे थे। जिससे ड्राइवर और ज्यादा डर गया। उन्होंने बताया एक्सीडेंट के बाद डाइवर की घटना स्थल पर ही मौत हो गई थी।

लापरवाह सरकार के कारण बच्चों की हुई मौत

घटनास्थल पर जब स्थानीय विधायक और शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज पहुंचे तो उन्हें वहां स्थानीय लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा। वे लोग यात्रियों की सुरक्षा के लिए सरकार पर लापरवाही का आरोप लगा रहे थे और क्षेत्र में पार्किंग सुनिश्चित कराने के लिए कह रहे थे। लोगों के विरोध को देखते हुए मंत्री जी ने वहां से निकल जाना ही बेहतर समझा और मंत्री घटनास्थल से तुरंत चले गए।

हादसे के बाद फूटा लोगों का गुस्सा

इस हादसे के बाद स्थानीय लोगों का आक्रोश चरम पर है। मंत्री और विधायक की बातें भी लोगों को पसंद नहीं आ रही है। आक्रोशित भीड़ ने सड़क के किनारे खड़े लगभग 20 वाहनों की खिड़कियों के शीशे तोड़ दिए। जिसके बाद पुलिस हरकत में आई और उग्र भीड़ को शांत करने के लिए पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है।

इससे लगभग एक पखवाड़े पहले भी कुल्लू जिले में यात्रियों से बुरी तरह भरी एक बस के दुर्घटनाग्रस्त होने पर 44 यात्रियों की मौत हो गई थी। इसके अलावा 35 यात्रियों को गंभीर चोटें आई थीं।