उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
PM modi in maldives
PM modi in maldives|google
देश

मालदीव पहुंचते ही मोदी ने छेड़ दी जंग, थर्रा रहा चीन व पाकिस्तान 

मोदी ने मालदीव के सर्वोच्च सम्मान को किया स्वीकार, आतंकवाद के खिलाफ एकजुट हुए दोनों देश । 

Puja Kumari

Puja Kumari

पीएम मोदी का मालदीव दौरा काफी समय से चर्चा में बना हुआ है, दूसरी बार सरकार बनाने के बाद पीएम मोदी ने अपने विदेशी दौरे में सबसे पहले मालदीव को ही चुना। ऐसे में कई लोगों के मन में यह सवाल उठ रहा था कि आखिर पीएम मोदी का पहला विदेशी दौरे में ‘मालदीव’ ही क्यों रखा गया ? पर कल जब प्रधानमंत्री ने मालदीव की धरती पर कदम रखा तो हर किसी को उसके सवाल का जवाब मिल गया। जी हां क्योंकि पीएम मोदी के नए कार्यकाल के इस दौरे पर जाने का मकसद हर किसी के सामने आ गया था।

PM modi in maldives
PM modi in maldives
google

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि मालदीव एक ‘मुस्लिम देश’ है लेकिन इसके बावजूद भी हिंदू हृदय व लोकतंत्र के प्रधान कहे जाने वाले पीएम मोदी (PM Modi) के वहां पहुंचते ही लोगों ने उनका भव्य स्वागत कर यह साबित कर दिया की धर्म की दीवार कभी भी अलगाव का कारण नहीं बन सकती है। इस बात का साक्षात प्रमाण कल पूरी दुनिया बनी।

इतना ही नहीं मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलेह (Maldivian President Ibrahim Mohamed Solih) ने भी पीएम मोदी को सबसे बड़े सम्मान से नवाजा, बता दें कि मालदीव के राष्ट्रपति जब सत्ता में आए थें तो वो पहली बार भारत का दौरा करने आए, जिसके जवाब में पीएम मोदी भी सबसे पहले वहां पहुंचे। इस घनिष्टता से कहीं न कहीं वैश्विक स्तर पर अपने संबंधो को बेहतर बनते हुए आप सभी देख सकते हैं।

पीएम मोदी वहां पहुंचते ही मालदीव के ‘मजलिस’ (Maldivian Parliament) से आतंकवाद जैसे बड़े मुद्दे को लेकर ऐसी बातें कही जिससे यह समझ आ गया कि आखिर उन्होंने अपने विदेशी दौरों में सबसे पहले मालदीव जाना है क्यों जरूरी समझा। बताते चलें कि मालदीव की संसद को 'पीपल्स मजलिस' (Peoples Majlis) कहते हैं। आतंकवाद (Terrorism) जैसे गंभीर बीमारी से वैश्विक तौर पर निपटने के लिए पीएम मोदी की यह पहल सराहनीय है। मालदीव में मोदी के भाषण से पाकिस्तान व चीन की हालत खराब हो गई क्योंकि उन्होने बिना किसी देश का नाम लिए सच को सामने लाकर रख दिया।

PM modi in maldives
PM modi in maldives
Google

चीन की कर्ज नीति के साथ-साथ पाकिस्तान के आतंकवादियों (Terrorist) की मदद करने का रहस्य सबकुछ बड़े ही चालाकी से बताया। ‘गुड टेररिस्ट और बैड टेररिस्ट’ (good and bad terrorist) के भेद को खत्म करने के साथ ही आतंकवाद से भविष्य में आने वाली पीढ़ी को जो नुकसान होने वाले हैं उन सबसे रूबरू भी कराया। पीएम मोदी के इस पहल ने उन सभी देशों को हिलाकर रख दिया जो आतंकवादियों की मदद करते हैं।

विदेशी सलाहकारों की मानें तो एक बार फिर से भारत व मालदीव करीब आ रहे हैं, इस दौरे में अन्य कई महत्वपूर्ण समझौतों पर भी हस्ताक्षर किए गए हैं। बताया जा रहा है कि भारत ने मालदीव को बड़ी वित्तीय मदद भी की है क्योंकि भारत मालदीव पर चीन के प्रभाव को कम करने की पूरी कोशिश कर रहा है। आपको पता होना चाहिए की मालदीव पर चीन के करीब 3 अरब डॉलर का कर्ज है।