उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
जिला मुख्यालय से  मात्र तीन किलोमीटर दूर पर खनन करती पोकलैंड मशीन (बाँदा उत्तर प्रदेश)
जिला मुख्यालय से मात्र तीन किलोमीटर दूर पर खनन करती पोकलैंड मशीन (बाँदा उत्तर प्रदेश)|Uday Bulletin
देश

बुंदेलखंड में पानी का हाहाकार, खनन माफिया अपनी सन्न में !

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

बाँदा समेत समूचे बुंदेलखंड में पानी की त्राहिमाम अपने चरम पर है, प्रशासन के द्वारा भरपूर पानी देने के वादे के बाद सप्लाई वाले नल पांच मिनिट में सांसे भरने लगते है , जिसका सीधा-सीधा जिम्मेदार खनन माफिया है जो, आये दिन गुणवत्ता वाली रेत(बालू)उठाने के चक्कर मे नदी की बहती धार को तोड़ देते है,

गौरतलब हो कि सुप्रीम कोर्ट और एनजीटी बड़ी मशीनों का रेत खनन में उपयोग प्रतिबंधित कर चुका है, राज्य समेत कई जिम्मेदार संगठनों को चेतावनी भी जारी कर चुका है, लेकिन माफियाओं के सरकारी तंत्र में तगड़ी पहुँच और पुलिस विभाग  को धनलाभ के लालच के कारण इन्हें रोकने का कोई कारगर प्रबंध सुझाई नही देता,

सनद रहे सरकारी तंत्र और राजनीतिक विकृति के कारण देशभर में प्रशिद्ध आईएएस बी चंद्रकला भी इन्ही माफिया के घोटालों में सीबीआई के दरवाजो के चक्कर काट रही है, उनके ऊपर हमीरपुर जिले में सपा समर्थित ठेकेदारों को मनमर्जी माफिक खदान आंवटन और अंधाधुंध दोहन कराने का आरोप लगा था,

पर्यावरणविद जी याचिका के बाद न्यायालय ने सीबीआई और इनकम टैक्स विभाग ने आरोपी व्यक्तियों समेत बी चन्द्रकला के ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापेमारी की थी, जिसमे बी चन्द्रकला समेत आरोपियों की कई अघोषित संपत्तियां के सुबूत मिले थे

वही बाँदा में योगी सरकार ने कई बार अवैध खनन  और नियमो को ताक पर रखकर खनन करने को पूरी तरह से बंद कराने की घोषणा की थी, लेकिन लोकल सिस्टम और लोकल राजनीति में पक्की पकड़ के कारण पुलिस चौकी के नजदीक बड़ी पोकलैंड मशीनी पुलिस के अधिकारियों को नजर नही आ रही !