उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
 ए.पी. अब्दुलाकुट्टी को पार्टी से निकाल
ए.पी. अब्दुलाकुट्टी को पार्टी से निकाल|Google
देश

मोदी की तारीफ करने वालों की कांग्रेस में कोई जगह नहीं, कहकर पार्टी से निकाल दिया

मोदी के डर से उबर नहीं पा रही कांग्रेस। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी से मिली करारी हार के बाद कांग्रेस हर कदम फूंक-फूंक कर रख रही है। प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव हो या नेताओं के बयान, पार्टी अपने सभी कार्यकर्ताओं पर नज़र जमाए हुए है। पिछले दिनों कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा था कि आने वाले 1 महीने तक पार्टी अपने किसी भी कार्यकर्ता को टीवी डिबेट में नहीं भेजेगी। कारन था, नेताओं की बेवजह बयानबाजी से बचना और हार के कारणों पर मंथन। लेकिन लगता है कांग्रेस अपने कार्यकर्ताओं पर कितना भी दबाव बना ले कुछ बदलने वाला नहीं है। कांग्रेस की केरल इकाई के विधायक एपी अब्दुल्लाकुट्टी ने बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जमकर प्रशंसा की जिसके बाद उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया। लेकिन अब यह मामला बढ़ता जा रहा है।

ए.पी. अब्दुलाकुट्टी केरल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हैं। पिछले दो बार से विधायक भी हैं। लेकिन उन्हें पार्टी से इसलिए निकाल दिया गया क्योंकि उन्होंने कहा था कि मोदी शासन में गांधीवादी मॉडल का अनुसरण कर रहे हैं। जब पार्टी ने उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया गया तो अब्दुल्लाकुट्टी इसका कोई संतोषजनक स्पष्टीकरण देने में विफल रहे। जिसके बाद उन्हें पार्टी से निकल दिया गया। 

पार्टी से निकाले जाने पर एपी अब्दुल्लाकुट्टी कहते हैं

“यह एक दुखद समाचार है। मुझे मुल्लापल्ली रामचंद्रन (KPCC अध्यक्ष) से इसकी उम्मीद थी। मैं अवसरवादी नहीं हूं। मैं एक ऐसा व्यक्ति हूं जिसने विकासात्मक मुद्दों पर हमेसा पार्टी का स्टैंड लिया। लेकिन पार्टी ने मुझे निकल दिया।”

एपी अब्दुल्लाकुट्टी

केरल कांग्रेस के प्रमुख मुल्लापल्ली रामचंद्रन कहते हैं

"अब्दुलाकुट्टी द्वारा दिया गया जवाब तिरस्कारपूर्ण था और संतोषजनक नहीं था। मोदी की प्रशंसा के लिए कारण बताओ नोटिस दिए जाने के बाद भी उन्होंने राज्य के पार्टी नेताओं की आलोचना करना जारी रखा। इसलिए, उन्हें पार्टी अनुशासन का उल्लंघन करने के लिए कांग्रेस पार्टी से बाहर कर दिया गया है।"

सूत्रों से खबर मिली हैं कि अब्दुल्लाकुट्टी बहुत जल्द बीजेपी में शामिल होने वाले हैं। उन्हें पार्टी में अल्पसंख्यक नेता के रूप में शामिल किया जाएगा।