उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
सुरेंद्र सिंह के शव को कंधा देती केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी 
सुरेंद्र सिंह के शव को कंधा देती केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी |Google
देश

स्मृति ईरानी ने जो बोला वो कर दिखाया, गिरफ्तार हुआ बीजेपी कार्यकर्ता का हत्यारा 

सुरेंद्र सिंह का हत्यारा पकड़ा गया। 

Uday Bulletin

Uday Bulletin

23 मई को लोकसभा चुनाव के नतीजे आते ही जहां हर तरफ देश भर के बीजेपी कार्यकर्ता जीत की जश्न में डूबे हुए थे वहीं अमेठी में बीजेपी कार्यकर्ता सुरेंद्र सिंह का परिवार शोक मना रहा था। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के करीबी सुरेंद्र सिंह की किसी ने गोली मार कर हत्या कर दी थी। सुरेंद्र सिंह की हत्या के बाद इसका राजनीतिकरण किया गया और इसे चुनाव से जोड़ कर देखा जाने लगा। हालांकि उत्तर प्रदेश पुलिस ने इस मामले में समझदारी से काम लिया। इसे राजनीतिक तूल देने के बजाए उन्होंने अपराधी को पकड़ना बेहतर समझा। लंबी जांच-पड़ताल के बाद आख़िरकार वारदात के पांचवें दिन पुलिस को कामयाबी मिल ही गई।

सुरेंद्र सिंह हत्याकांड मामले में मुख्य आरोपी वसीम को पुलिस ने एक मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस मुठभेड़ में वसीम के पैर में गोली लगी है। जामो सीएचसी में उसका इलाज चल रहा है।

अपर पुलिस अधीक्षक (एएसपी) दया राम ने बताया, "सुरेंद्र सिंह हत्याकांड में अब तक नामजद पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। चार को जेल भेजा जा चुका है। वसीम को मुठभेड़ के दौरान गोली लगी है। उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घायल वसीम को इलाज के लिए जामो सीएचसी में भर्ती कराया गया है। जहां पुलिस के जवानों को तैनात किया गया है। किसी को भी वसीम के पास जाने की अनुमति नहीं है।"

घटना का कारण बताते हुए उन्होंने बताया कि घटना आपसी रंजिश के कारण हुई है। बाकी जानकारी पुलिस अधीक्षक प्रेस कॉन्फ्रेंस में देंगे।

ज्ञात हो कि अमेठी में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के बेहद करीबी रहे पूर्व सुरेंद्र सिंह की 25 मई को देर रात उनके आवास पर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी सुरेंद्र के शव को स्वयं कंधा देकर श्मशान घाट तक गई थीं।

इस दौरान उन्होंने सुरेंद्र के परिवार को दिलासा देते हुए कहा था कि "अब मैं आपका बेटा हूं। आप मेरे परिवार है। उन्होंने कहा था मेरे भाई के हत्यारों को हम पकड़ लेंगे।

केंद्र मंत्री स्मृति के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी पुलिस को 12 घंटे के अंदर सभी आरोपियों को गिरफ्तार करने का आदेश दिया था। जिसके बाद पुलिस की कई टीमें एक साथ आरोपियों की तलाश में जुटी थी। एक-एक कर पुलिस ने सभी पांचों नामजद आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है ।