उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Loksabha Election Result
Loksabha Election Result|Twitter
देश

मोदी- शाह की जादुई जीत के बाद, एक बार फिर संसद को नहीं मिलेगा नेता प्रतिपक्ष 

नेता प्रतिपक्ष चुनने के लिए कांग्रेस के पास 55 सांसद होने चाहिए थे जो नहीं है। 

Uday Bulletin

Uday Bulletin

निर्वाचन आयोग के मुताबिक अब तक 542 सीटों में से 510 लोकसभा सीटों पर चुनाव परिणाम घोषित किया जा चुका है। जिसमें बीजेपी 302 सीटें जीत चुकी हैं और 01 सीट पर आगे चल रही है। वहीं कांग्रेस 52 सीटों पर सिमट गयी है, जिसके बाद एक बार संसद में नेता प्रतिपक्ष चुनने की समस्या खड़ी हो गई है और इस बार फिर ऐसा लग रहा है कि साल 2014 की तरह संसद को लोकसभा का नेता प्रतिपक्ष नहीं मिल पाएगा।

दरअसल नेता प्रतिपक्ष चुनने के लिए संसद में जीत कर आई देश की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी के पास कुल 10 फीसदी सांसद होने चाहिए। यानी करीब 55 सांसद। लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आंधी के सामने कांग्रेस का सूपड़ा साफ़ हो गया है। कांग्रेस महज 52 सीटों पर सिमट गयी है।

साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भी कांग्रेस को 44 सीटें ही मिलीं थी। लेकिन कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे को नेता प्रतिपक्ष चुना गया था। लेकिन इस बार के लोकसभा में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे कर्नाटक में कलबुर्गी सीट से हार गए हैं। पार्टी ने लोकसभा चुनाव में कई पूर्व मुख्यमंत्रियों को मैदान में उतारा था और वे सभी चुनाव हार गए। इस बार कांग्रेस को 11 सीटें का मुनाफा तो हुआ है लेकिन आधिकारिक तौर पर नेता प्रतिपक्ष नहीं मिला।

यदि आप जम्मू एवं कश्मीर से तमिलनाडु तक जाएं तो रास्ते में पड़ने वाले करीब आधा दर्जन राज्यों में कांग्रेस का एक भी सांसद नहीं मिलेगा। पार्टी 2019 के लोकसभा चुनाव में 18 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में एक भी सीट नहीं जीत पाई है। चुनाव हारने वालों में कांग्रेस के आठ मुख्यमंत्री और लोकसभा में पार्टी के नेता शामिल हैं।

जिन बड़े राज्यों में कांग्रेस का खाता नहीं खुला है, उनमें राजस्थान, आंध्र प्रदेश, गुजरात और ओडिशा शामिल हैं। छोटे राज्यों में जम्मू एवं कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली और उत्तराखंड शामिल हैं। इसके अलावा अंडमान एवं निकोबार, दादरा एवं नगर हवेली, दमन एंड दीव, लक्षद्वीप, मणिपुर, मिजोरम, सिक्किम और त्रिपुरा में भी कांग्रेस कोई सीट नहीं जीत पाई है।

वहीं दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी अपनी शानदार जीत का जश्न मना रही है। बीजेपी को अपने दम पर बहुमत मिल चुका है और नरेंद्र मोदी पांच साल का पूर्ण कार्यकाल पूरा करने के बाद दोबारा सत्ता में वापसी करने वाले भारत के तीसरे प्रधानमंत्री बन गए हैं। इससे पहले देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और मनमोहन सिंह पूर्ण कार्यकाल के बाद लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री बने थे।