उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
‘फानी’ में जन्मी ‘फानी’ 
‘फानी’ में जन्मी ‘फानी’ |Twitter
देश

चक्रवाती तूफान फानी में जन्मी बच्ची, माँ-बाप ने नाम भी ‘फानी’ रख दिया  

‘फानी’ में जन्मी ‘फानी’।

Uday Bulletin

Uday Bulletin

भुवनेश्वर रेलवे अस्पताल में आज एक बच्ची का जन्म हुआ है। उसका नाम चक्रवाती तूफान फानी के नाम पर फानी रखा गया है।

दरअसल ओडिशा बेहद भयंकर चक्रवाती तूफान 'फानी' से जूझ रहा है। ओडिशा के तटीय क्षेत्र में रहने वालों आठ लाख लोगों को सुरक्षा करने की वजह से सरकार ने विस्थापित कर दिया है। हवाएं 170 से 180 किमी प्रति घंटे की रफ्तार के साथ बह रही हैं। और इन सब आपदाओं के बीच ओडिशा में आज एक बच्ची का जन्म हुआ है।

समाचार एजेंसी ANI से मिली जानकारी के मुताबिक यह घटना ओडिशा के भुवनेश्वर की है। जहां एक 32 वर्षीय महिला ने आज सुबह 11:03 बजे भुवनेश्वर के रेलवे अस्पताल में एक बच्ची को जन्म दिया। फानी चक्रवात के बीच में जन्मी इस बच्ची का नाम चक्रवाती तूफान, फानी के नाम पर फानी रखा गया है। बताया जा रहा है फानी की माँ एक रेलवे कर्मचारी है, जो कोच रिपेयर वर्कशॉप, मणेश्वर में एक सहायक के रूप में काम करती है। डॉक्टर की टीम ने बताया कि जच्चा-बच्चा दोनों ठीक हैं।

चक्रवाती तूफान फानी के असर की वजह से ओडिशा में भूस्खलन होने के बाद पड़ोसी कोलकाता व पश्चिम बंगाल के गंगातटीय क्षेत्रों में शुक्रवार को भारी बारिश हुई।

अत्यधिक भयावह चक्रवाती तूफान से सुबह 10 बजे के बाद भूस्खलन हुआ। यह कोलकाता से दक्षिण पश्चिम में 400 किमी से ज्यादा दूर स्थित था और पूर्वी मिदनापुर जिले से 350 किमी दक्षिण पश्चिम में था।

नागरिक उड्डयन महानिदेश्क ने सभी एयरलाइनों को नेताजी सुभाष चंद्र बोस इंटरनेशनल हवाईअचड्डे से शुक्रवार अपरान्ह 3 बजे व शनिवार सुबह 8 बजे के बीच अपने उड़ान संचालन को रोकने के लिए संशोधित परामर्श जारी किया है।

मौसम विभाग के अनुसार, चक्रवात के जमीनी क्षेत्र में प्रवेश करने की पूरी प्रक्रिया सुबह 11 बजे पूरी हो गई थी।

इसमें कहा गया, "इसने ओडिशा तट को गोपालपुर व चंदबली के बीच पुरी के करीब 170 से 180 किमी प्रति घंटे की हवा की रफ्तार के साथ पार किया।" सभी एहतियाती उपाय जैसे उड़ान रद्द करना, ट्रेनों को रद्द करना व जल परिवहन सेवाओं को रद्द किया गया है।

राज्य सरकार व कोलकाता नगर निगम ने निचले इलाकों में रह रहे लोगों को सुरक्षित जगहों पर स्थानांतरित करने का फैसला लिया है। मदद के लिए एक टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर 1070 साझा की गई है।