उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
12th CBSE Result
12th CBSE Result|Google
देश

सीबीएसई की परीक्षा में पास हुए अरविन्द केजरीवाल और ईरानी के बच्चे, कितने नंबर मिले ?

अरविन्द केजरीवाल और स्मृति ईरानी का रिजल्ट आ गया।  

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

सीबीएसई ने 12 वीं कक्षा का रिजल्ट जारी कर दिया है। रिजल्ट के आते ही पेरेंट्स और बच्चों के बीच रिजल्ट को लेकर उत्सुकता बढ़ जाती है। गिफ्ट और थैंक्स कहने का सिलसिला शुरू हो जाता है। कुछ इसी तरह की उत्सुकता केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल के ट्वीट्स में देखने को मिली है।

दरअसल दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के पुत्रों ने केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) की 12वीं की परीक्षा में 90 फीसदी से अधिक अंक हासिल कर अपने-अपने माता-पिता को गौरवान्वित किया।

ईरानी ने ट्विटर पर अपनी खुशी जाहिर करते हुए कहा, "मुझे अपने पुत्र जोहर पर गर्व है। उसने न सिर्फ वर्ल्ड केंपो चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीता बल्कि 12वीं में भी अच्छे अंक हासिल किए। मैं आज सिर्फ टकटकी लगाकर देखने वाली मां हूं।"

वहीं आम आदमी पार्टी प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल ने भी ट्वीट के जरिए कहा, "ईश्वर की अनुकंपा और शुभेच्छुओं के आशीर्वाद से बेटे ने सीबीएसई की 12वीं (परीक्षा) में 96.4 फीसदी अंक हासिल किया।"

आपको बता दें कि केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने इंटरमीडिएट परीक्षा परिणामों की घोषणा की। हंसिका शुक्ला और करिश्मा अरोड़ा को संयुक्त रूप से 12वीं कक्षा का टॉपर घोषित किया। कुल पास प्रतिशत 83.4 फीसदी रहा। दिल्ली पब्लिक स्कूल, गाजियाबाद की हंसिका शुक्ला और एस. डी पब्लिक स्कूल, मुजफ्फरनगर की करिश्मा अरोड़ा ने लड़कों को नौ प्रतिशत से पछाड़ा। दोनों लड़कियों ने 500 में से 499 अंक प्राप्त किए हैं।

पहले स्थान पर त्रिवेंद्रम क्षेत्र रहा जहां पास प्रतिशत सबसे अधिक 98.2 फीसदी रहा। वहीं चेन्नई रीजन ने 92.93 फीसदी के साथ दूसरा स्थान हासिल किया, जबकि दिल्ली 91.87 फीसद पास प्रतिशत के साथ तीसरे स्थान पर रहा।

लड़कों का पास प्रतिशत 79.40 रहा, जबकि लड़कियों के लिए यह 88.7 और ट्रांसजेंडर वर्ग के लिए यह 83.33 रहा। विशेष आवश्यकता वाले बच्चों का उत्तीर्ण प्रतिशत 90.25 प्रतिशत रहा।

2018 में पास प्रतिशत 83.01 था जबकि 2019 में यह 83.4 प्रतिशत रहा, इसमें 0.39 प्रतिशत की वृद्धि हुई। देश भर से कुल 12,05,484 छात्रों ने परीक्षा दी और जिनमें से 10,05,427 छात्र सफल घोषित किए गए।