उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
प्रियंका गाँधी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 
प्रियंका गाँधी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी |Google
देश

‘कांग्रेस और बीजेपी के संस्कार में फर्क है’ सोशल मीडिया में खूब शेयर किया जा रहा है यह वीडियो 

बीजेपी और कांग्रेस के बीच शुरू हुआ ट्विटर वार कहां से कहां आ गया। 

Uday Bulletin

Uday Bulletin

बीजेपी नेता सुरेंद्र पुनिया ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक वीडियो शेयर किया है जो खूब वायरल हो रहा है। 28 सेकंड के इस वीडियो को 2 भागों में बांटा गया है। एक तरफ बच्चों से घिरी प्रियंका गांधी वाड्रा हैं तो दूसरी तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

वीडियो के पहले पार्ट में प्रियंका गांधी वाड्रा हैं जो करीब 20-25 बच्चों से घिरी हैं। इस वीडियो में बच्चे प्रियंका के सामने चौकीदार चोर है के नारे लगा रहे हैं, साथ ही साथ पीएम मोदी के लिए आपत्तिजनक नारे का भी इस्तेमाल कर रहे हैं। बच्चे नारा लगाते हुए कह रहे हैं -

‘चौकीदार चोर है, चौकीदार चोर है’

और प्रियंका मुस्कुरा रही हैं। तभी बच्चे नारा लगाते हुए नरेंद्र मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल करने लगते हैं , प्रियंका बच्चों को रोकती हैं और कहती हैं अच्छे बच्चे बनिए, ऐसा नहीं बोलते। फिर बच्चे

राहुल गाँधी जिंदाबाद, राहुल गाँधी जिंदाबाद !

के नारे लगाने लगते हैं। प्रियंका बच्चों का सिर सहलाती हैं और चली जाती है। ये वाक्या अमेठी का। (हालांकि बीजेपी नेता द्वारा शेयर किया गया यह वीडियो आधा है , जिसमें बच्चे प्रधानमंत्री मोदी को गाली दे रहे हैं। )

प्रियंका गाँधी का पूरा वीडियो यहां देख लीजिए।

वहीं वीडियो के दूसरे पार्टी में पीएम मोदी किसी स्कूल के कार्यक्रम में हैं जहां सैकड़ों बच्चें।

पीएम नरेंद्र मोदी भी वहां बच्चों से नारा लगवा रहे हैं। लेकिन उनका नारा देश को समर्पित है। पीएम नरेंद्र मोदी वहां बच्चों से

भारत माता की जय !

और, वंदे मातरम के नारे लगवा रहे हैं।

बीजेपी ने इस वीडियो को पोस्ट करते हुए लिखा है 'बीजेपी और कांग्रेस के संस्कार में फर्क है '

इस वीडियो को पोस्ट करते हुए बीजेपी नेता ने कैप्शन में लिखा "बच्चों से गाली गलोच करवाते हुए देखकर शायद नरेंद्र मोदी, मैडम प्रियंका गांधी वाड्रा जी से सिर्फ़ इतना ही कहते -

नफ़रत हो जायेगी तुझे अपने ही किरदार से,

अगर मैं तेरे ही अंदाज में तुझसे बात करुं।

इस वीडियो पर टिप्पणी करते हुए और इस आधा बताते हुए ABP न्यूज़ चैनल की पत्रकार रुबिका लियाकत ने लिखा-

"मेजर आधा सच झूठ से ज़्यादा ख़तरनाक होता है। ये वीडियों अधूरा है। पूरे वीडियो को देखिए तो तस्वीर बदल जाएगी, प्रियंका गाली गलोच करवा नहीं रही बल्कि रुकवा रही है।"

जिसपर जवाब देते हुए बीजेपी नेता सुरेंद्र पूर्णया ने लिखा

"वाह रूबीका जी,अच्छी पटकथा है।

पहले प्लान करके अपने सामने किसी का क़त्ल कराओ..फिर क़ातिल पर पर ग़ुस्सा करो/चीख़ो चिल्लाओ ,

और अन्त में छाती पीट पीट कर मरने वाले के लिये शोक मनाओ और देवात्मा प्रियंका कहलाओ !

याद करो,जब आप 4-5 साल के थे तो आपने भड़वा शब्द सुना था ? शर्तिया नहीं "

वहीं एक यूजर ने लिखा -” आप भी बहक गए , पूरा वीडियो तो देख लेते , आधा वीडियो पोस्ट करके लोगों को गुमराह कर रहे हो ! “

एक यूजर ने प्रियंका गांधी पर टिप्पणी करते हुए लिखा कि -

ओह, तो यही हैं वो नेहरू, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी वाले 'संस्कार', जिनका मिसेज वाड्रा अक्सर जिक्र करती रहती हैं !

लिबरल और सिक्यूलर तबका, जिनकी कसमें खाता है

तब तो यह भी तय है कि यह लोग अपने घरों में भी बच्चों से ऐसे ही नारे लगवाते होंगे !

'शर्म इनको मगर नहीं आती'

बता दें कि, प्रियंका गांधी वाड्रा 30 अप्रैल को राहुल गांधी के लिए चुनाव-प्रचार करने अमेठी पहुंची थीं। वहीं कुछ लोकल कार्यकर्ता और बच्चों को प्रियंका के लिए जमा किए गए। और उन बच्चों से नारे लगवाए गए।