उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
मोदी के फैन वसीम रिजवी
मोदी के फैन वसीम रिजवी|Google
देश

अगर नरेंद्र मोदी दोबारा प्रधानमंत्री नहीं बने तो आत्महत्या कर लेंगे शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष

पीएम मोदी के समर्थक वसीम रिजवी चाहते हैं मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बने। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

वैसे तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकप्रियता के मामले में देश-विदेश के बड़े से बड़े नेताओं को पीछे छोड़ दिया है। उनके ट्विटर, फेसबुक और इंस्टाग्राम पर करोड़ों फोल्लोवेर्स हैं। बराक ओबामा के बाद नरेंद्र मोदी ऐसे नेता हैं जिनकी फैन फ़ॉलोइंग दुनिया भर में है। नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता का आलम ऐसा है कि शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष सैयद वसीम रिजवी कहते हैं कि अगर नरेंद्र मोदी दोबारा प्रधानमंत्री नहीं बने तो वह आत्महत्या कर लेंगे।

जी हाँ, आपने सही सुना उत्तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष सैयद वसीम रिजवी ने मंगलवार को मीडिया से बात करते हुए कहा कि अगर नरेंद्र मोदी दोबारा प्रधानमंत्री नहीं बने तो वह आत्महत्या कर लेंगे। वसीम रिजवी ने अपने बयान में कहा है कि , "अगर 2019 में नरेंद्र मोदी को दोबारा देश के प्रधानमंत्री नहीं बने तो मैं अयोध्या में राम मंदिर के गेट के पास जाकर आत्महत्या कर लूंगा।"

उन्होंने कहा है कि, "अगर 2019 में किसी और सियासी दल का नेता देशद्रोहियों की मदद से प्रधानमंत्री बन जाता है तो मैं आत्महत्या कर लूंगा, क्योंकि देशद्रोहियों के हाथों मरने से अच्छा है कि मैं इज्जत की मौत मरूं।" पीएम मोदी की तारीफ करते हुए रिजवी ने कहा, "देशप्रेमियों में नरेंद्र मोदी के लिए मोहब्बत है तो गद्दारों में खौफ है। वह देश के कुशल प्रधानमंत्री हैं।"

रिजवी ने कहा, "राष्ट्र हर मजहब से ऊपर होता है। जब भी मैं राष्ट्रहित की कोई बात करता हूं तो कट्टरपंथी मुझे जान से मारने की धमकी देते हैं। वह कहते हैं कि जाने दो मोदी सरकार को हम तुम्हें बोटी-बोटी काट देंगे।"

वसीम रिजवी राममंदिर को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहते हैं। उन्होंने पिछले दिनों मदरसों को लेकर बड़ा बयान दिया था, जिसके बाद उन्हें धमकियां मिलने लगी थीं।

इससे पहले भी कई मौके पर सैयद वसीम रिजवी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन करते हुए देखा गया है। राम मंदिर विवाद हो या तीन तलाक सैयद वसीम रिजवी नरेंद्र मोदी और बीजेपी के हर फैसले का समर्थन करते देखें गए हैं। यहां तक कि उन्होंने शियाओं के सर्वोच्च धर्मगुरु अयातुल्ला अल सैयद अली अल हुसैनी अल सिस्तानी के फतवे को अस्वीकार को भी ख़ारिज कर दिया है। जिसके बाद इस्लाम धर्मगुरु ने वसीम रिजवी और उनके मददगार का बहिष्कार कर दिया है।