उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
मथुरा लोकसभा इलेक्शन 
मथुरा लोकसभा इलेक्शन |Twitter
देश

शर्मनाक ! बीजेपी नेताओं को सभा में भीड़ बढ़ाने के लिए लेना पड़ता है फूहड़ डांस का सहारा  

बीजेपी हेमा मालिनी की जनसभा में जब भीड़ जुटाने में असफल रही तो आयोजकों को भीड़ जमा करने के लिए डांसर को बुलवाना पड़ा।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

भारतीय जनता पार्टी ने हेमा मालिनी को मथुरा से लोकसभा चुनाव का उम्मीदवार बनाया है। बीजेपी संगठन द्वारा हेमा मालिनी के नाम पर मोहर लगने के बाद मथुरा में उनका प्रचार-प्रसार शुरू हो गया। लोगों से मिलना-जुलना, सभाएं करना और धुंआधार रैलियों का दौर चल रहा था। इसी क्रम में हेमा मालिनी छाता विधानसभा क्षेत्र में जनसभा को संबोधित करने पहुंची। छाता विधानसभा क्षेत्र जाट और ठाकुरों का क्षेत्र है और यहाँ से विधायक बीजेपी का ही है। जब हेमा मालिनी यहां लोगों को संबोधित करने पहुंची तो उनकी सभा में लोग नदारत दिखे।

बड़े-बड़े पोस्टर और टेंट लगवाने के बाद भी बीजेपी हेमा मालिनी की जनसभा में जब भीड़ जुटाने में असफल रही तो आयोजकों को भीड़ जमा करने के लिए डांसर को बुलवाना पड़ा। चूँकि आयोजकों पर जनसभा के दौरान यह ज़िम्मेदारी होती है कि उनके इलाके में प्रचार-प्रसार के दौरान कोई कमी न रह जाए। बड़ी संख्या में भीड़ आए और नेता को सुने जब ऐसा नहीं हो सका तो मजबूर होकर आयोजकों को डांसर को बुलवाना पड़ा।

भावी सांसद की इस जनसभा का आयोजन आझई खुर्द स्थित महाविद्यालय में किया गया था। जब आयोजकों ने भीड़ बढ़ाने के लिए डांसर बुलाये तो आलम ये था कि एक तरफ स्कूल में बच्चे पढ़ रहे थे तो दूसरी तरफ डांसर अश्लील ठुमके लगा रही थी। जिसके बाद स्कूल प्रशासन मुस्तैद हुआ और हेमा मालिनी की इस डांसर सभा को भागना पड़ा।

हैरानी की बात यह है कि हेमा मालिनी की इस सभा के लिए स्कूल प्रशासन से अनुमति तक नहीं ली गई थी। जब स्कूल प्रशासन ने आयोजकों से पूछा ये क्या चल रहा है। तो आयोजकों ने इसकी जानकारी देने से भी मना कर दिया। स्कूल शिक्षका और इंचार्ज जमुना देवी के विरोध के बाद इस नाच-गाने के कार्यक्रम को बंद किया गया। हेमा मालिनी के यहां पहुंचने से पहले मामला शांत करा दिया गया था। बाद में उनकी सभा रद्द कर दी गई।