उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
क्या होगा भारत-पाकिस्तान का अगला कदम ?
क्या होगा भारत-पाकिस्तान का अगला कदम ?|google
देश

भारतीय पायलट अभिनन्दन की वापसी के बाद, क्या होगा भारत-पाकिस्तान का अगला कदम ?

पाकिस्तान ने ऐलान किया कि वह विंग कमांडर अभिनंदन बर्धमान को शुक्रवार को रिहा करेगा।

Uday Bulletin

Uday Bulletin

भारतीय पायलट विंग कमांडर अभिनन्दन को छोड़ने के लिए पाकिस्तान तैयार है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा दोनों मुल्कों में शांति बहाल करने के लिए अगर अभिनन्दन को छोड़ना होगा तो हम तैयार है। लेकिन उसके बाद क्या ? क्या यह मामला 1 मिग 21 के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद ख़त्म हो जायेगा ? क्या पुलवामा हमले का बदला ले लिए गया है ? भारतीय पायलट को छोड़ने के बाद पाकिस्तान के दामन में लगे सारे दाग धुल जायेंगे ? क्या पिछले 30 सालों से चल रहा भारत में आतंकवाद ख़त्म हो जायेगा ? ऐसे ही कई सवाल हैं, जिनका जवाब दोनों ही देशों की मीडिया और जनता जानना चाहती है।

भारत व पाकिस्तान को तुरंत युद्ध वाली स्थिति खत्म करनी चाहिए

पाकिस्तान के दो चर्चित दैनिक अखबारों ने गुरुवार को लिखा कि भारत व पाकिस्तान को तुरंत युद्ध वाली स्थिति खत्म करनी चाहिए और अगर दोनों परमाणु हथियार संपन्न पड़ोसियों के बीच गैर पारंपरिक युद्ध को रोकना है तो इसमें वैश्विक समुदाय को कूटनीतिक रूप से हस्तक्षेप करना चाहिए। द डॉन ने कहा, "क्या होना चाहिए (अगला कदम) बिल्कुल साफ है। भारत व पाकिस्तान को तुरंत युद्धस्थिति को समाप्त करना चाहिए, वैश्विक समुदाय को तत्काल कूटनीतिक रूप से हस्तक्षेप करना चाहिए और किसी भी कीमत पर भारत व पाकिस्तान के बीच युद्ध को रोका जाना चाहिए।"

'शांति का मकसद' शीर्षक वाले एक संपादकीय में कहा गया कि इस्लामाबाद की बुधवार को सैन्य कार्रवाई जंग में तेजी लाने के लिए नहीं थी, बल्कि एक दिन पहले भारत द्वारा पाकिस्तानी क्षेत्र में गिराए गए बमों की यकीनन एक जरूरी और समानुपातिक प्रतिक्रिया थी।

युद्ध से होगा विनाश

इसमें कहा गया, "भारत को सैन्य कार्रवाई के अगले चरण से बचना चाहिए और विश्व को भारत को संयम रखने के लिए समझाना चाहिए। यहां से अकल्पनीय संघर्ष और तबाही के बीच की दूरी दोनों देशों के युद्ध रणनीतिकारों, योजनाकारों और निर्णयकर्ताओं की तुलना में कम हो सकती है।"

दैनिक अखबार में कहा गया है कि परमाणु युग में अगर युद्ध छिड़ता है तो असंगत पैमाने पर विनाश हो सकता है।

अखबार में कहा गया है, "इस क्षेत्र में हमेशा से युद्ध का एक विकल्प रहा है और भारत को उसे पहचानना चाहिए और शांति तक पहुंचना चाहिए।"

युद्ध से अर्थव्यवस्था को सबसे ज्यादा नुकसान

द डेली टाइम्स ने भी ऐसी ही बात कही और मंगलवार तड़के पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के प्रशिक्षण शिविर पर वायुसेना की कार्रवाई के बाद से दक्षिण एशिया में पारंपरिक युद्ध जैसे हालात का खतरा मंडराता हुआ बताया।

दैनिक ने इस्लामाबाद से पूरे विश्व में आतंकी गतिविधियों में संलिप्त सभी व्यक्तियों और समूहों के खिलाफ प्रयास तेज करने का आग्रह किया।

एक अलग संपादकीय में, डेली टाइम्स ने कहा कि युद्ध से अर्थव्यवस्था को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचेगा जैसा कि भारतीय और पाकिस्तानी शेयर बाजारों में बुधवार को देखा गया। पाकिस्तान वायुसेना ने बुधवार सुबह भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ की थी, जिसके बाद शेयर बाजार में गिरावट देखने को मिली थी।

डेली टाइम्स ने कहा, "दोनों देश सैन्य श्रेष्ठता के मामले में एक-दूसरे से आगे रहने के प्रयास में हर साल अरबों खर्च करते हैं, जबकि उनके लाखों लोग जीवन की बुनियादी सुविधाओं से वंचित रहते हैं, जिनमें अच्छा आहार, पीने योग्य पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा और आश्रय शामिल है।"

--आईएएनएस