उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
surgical strike 2 
surgical strike 2 |google image
देश

सर्जिकल स्ट्राइक 2: भारत पाकिस्तान के बीच बढ़ते तनाव के बावजूद क्या लोकसभा चुनाव समय पर होगा ?

पुलवामा हमले के 13 दिन के अंदर ही भारतीय वायुसेना ने जो पराक्रम दिखाते हुए शहीद हुए जवान का बदला लिया है वो अतुलनीय है।

Anuj Kumar

Anuj Kumar

पूरे देश में वायुसेना के शौर्य गाथा की ही चर्चा है। लोगो खुश है और जश्न मना रहे है। इस बीच सोशल मीडिया में एक और बात की चर्चा हो रही है। चर्चा इस बात कि क्या सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भारत पाकिस्तान के बीच बढ़ते तनाव के बावजूद लोकसभा चुनाव तय समय पर होगा या फिर चुनाव की तारीख में कुछ बदलाव होगा। सोशल मीडिया में इसे लेकर तरह तरह की बातें हो रही हैं। लेकिन चुनाव आयोग के जवाब ने सभी अटकलों को शांत कर दिया है।

चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने कहा है कि हम अपने कर्तव्यों को करने के लिए संवैधानिक मर्यादा से बंधे हुए हैं। हम पूरे मामले पर नजर बनाए हुए हैं। दरअसल, अशोल लवासा महाराष्ट्र में चुनावी तैयारी की समीक्षा करने आए थे। इस बीच महाराष्ट्र में उन्होंने सभी राजनीतिक पार्टियां के साथ मीटिंग भी की। इसके साथ ही महाराष्ट्र के मुख्य चुनाव अधिकारी और पुलिस अधिकारियों के साथ भी उनकी बैठक हुई।

क्यों महत्व रखती है चुनाव आयुक्त की टिप्पणी

अब सवाल उठता है कि सर्जिकल स्ट्राइक से चुनाव का क्या लेना देना। आपको थोड़ा पीछे लिए चलते हैं। साल 1999 में जब लोकसभा का चुनाव हुआ था। उस वक्त हुए कारगिल युद्घ की वजह से देश में देशभक्ति का माहौल था। किसी भी राजनीतिक दल को इसका फायदा न हो इसके लिए चुनाव आयोग ने एक बड़ा कदम उठाया था। चुनाव आयोग ने दूरदर्शन पर कारगिल युद्घ से जुड़ी फिल्में दिखाने से मना कर दिया था। इतना ही नहीं चुनाव आयोग ने जवानों को भी लाइम लाइट में आने से सख्त मना कर दिया था।

दरअसल, चुनाव आयोग इस बात का विशेष ध्यान दिया था कि कारगिल युद्घ से किसी भी राजनीतिक दल को इसका फायदा नहीं पहुंचना चाहिए। इसका लाभ राजनीतिक दल 1999 के चुनाव में उठा सके। चुनाव आयोग ने बाकायदा एक प्रेस कॉन्फ्रेस कर सरकार द्वारा कारगिल युद्घ पर चल रहे शो पर रोक लगा दी।

ये तो उस वक्त की बात है लेकिन आज का दौर प्राइवेटाइजेशन का है। क्या चुनाव आयोग इस पर भी कोई रोक लगा पायेगा। ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा।