udaybulletin
www.udaybulletin.com
PM Modi को शांति पुरस्कार प्रदान किया गया
PM Modi को शांति पुरस्कार प्रदान किया गयाtwitter
देश

प्रधानमंत्री मोदी का यह video देखकर आप भी कहेंगे, वाह क्या बात है !

PM Modi को सियोल पीस प्राइज फाउंडेशन की ओर से आयोजित भव्य समारोह में शांति पुरस्कार प्रदान किया गया, PM ने पुरस्कार की दो लाख डॉलर की राशि गंगा सफाई अभियान से जुड़े नमामि गंगे प्रोजेक्ट को समर्पित की

दक्षिण कोरिया से सियोल शांति पुरस्कार ग्रहण करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार रात दिल्ली लौट आए हैं। राजधानी दिल्ली लौटने पर प्रधानमंत्री मोदी का पालम एयरपोर्ट पर का भव्य स्वागत हुआ। जिसे देखकर आपका मन जोश से भर जायेगा। एक सच्चे देशभक्त नेता का स्वागत जनता कैसे करती है वो आप इस वीडियो में देख सकते हैं। पीएम मोदी के स्वागत में हज़ारों लोगों का हुजूम नारे लगा रहा था। जिनमें बीजेपी के कार्यकर्ताओं से लेकर देश के आम लोग भी शामिल थे।

अपने समर्थकों को इस तरह जोश में भरा हुआ देख कर सियोल से 'शांति दूत' बनकर लौटे प्रधानमंत्री मोदी ने भी निराश नहीं किया। कारों के लंबे चौड़े काफिले को रोका और सुरक्षा घेरा तोड़कर लोगों के करीब जाकर उनका अभिवादन स्वीकार किया। प्रधानमंत्री मोदी ने वहां मौजूद हुजूम की पहली लाइन में खड़े लगभग सभी लोगों से हाथ मिलाया और अभिनन्दन स्वीकार किया। इस बीच लोगों ने मोदी-मोदी के नारे लगाने शुरू कर दिए। प्रधानमंत्री की एक झलक लेने और उनसे हाथ मिलाने की आस में सर्द रात और मौसम भी बाधा नहीं बन सका।

अपने समर्थकों का उत्साह देखकर प्रधानमंत्री मोदी अभिभूत दिखे और उन्होंने बार-बार वहां जमा लोगों का अभिवाद भी किया। प्रधानमंत्री मोदी जनता के बीच कितने लोकप्रिय इसका अंदाजा इस हुजूम को देखकर लगाया जा सकता है। प्रधानमंत्री मोदी ने भी लोगों को अपने चिर परिचित अंदाज़ जवाब दिया। उन्होंने सुरक्षा घेरा तोड़ते हुए करीब 5 मिनट तक लोगों के बीच रहे। इसके बाद वह अपने सुरक्षा काफिले के साथ एयरपोर्ट से रवाना हो गए।

पीएम मोदी को मिला साल 2018 का ‘सियोल शांति पुरस्कार’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोर में साल 2018 का ‘सियोल शांति पुरस्कार’ दिया गया था। वह यह पुरस्कार हासिल करने वाले दुनिया की 14वीं शख्सियत हैं। इस सम्मान को हासिल करने के लिए उनकी प्रतिस्पर्धा 1000 लोगों से थी। प्रधानमंत्री मोदी से पहले यह पुरस्कार साल 2016 में डेनिस मुक्वेगे को मिला था। डेनिस मुक्वेगे रिपब्लिक ऑफ कांगो में कार्यरत एक स्त्री रोग विशेषज्ञ हैं। उन्होंने 35 हज़ार रेप पीड़िता की इलाज में मदद की थी।